जौनपुर/सिकरारा थाना क्षेत्र के रीठी गडरहा गांव में आज शाम 3:00 बजे के करीब मोटरसाइकिल सवारों ने पाइप फटने के विवाद को लेकर एक युवक के पेट में मारी गोली

0
857

जौनपुर/सिकरारा थाना क्षेत्र के रीठी गडरहा गांव में आज शाम 3:00 बजे के करीब मोटरसाइकिल सवारों ने पाइप फटने के विवाद को लेकर एक युवक के पेट में मारी गोली

शैलेश कुमार की रिपोर्ट…

सिकरारा स्थानीय थाना क्षेत्र के रीठी गडरहा गांव में आज शाम 3:00 बजे के करीब मोटरसाइकिल सवारों ने पाइप फटने के विवाद को लेकर एक युवक के पेट में गोली मार दी और साथ में लाठी-डंडे से मारकर उसका सिर भी फोड़ दिया

देवर को बचाने पहुंची भाभी को भी बदमाशों ने लाठी से पीटकर घायल कर दिया और मौके से फरार हो गए शोर होने पर तत्काल पहुंचे ग्राम वासियों ने प्राइवेट वाहन से सदर लेकर गए लेकिन स्थिति नाजुक देखकर दोनों को बीएचयू के लिए रेफर कर दिया गया

सूचना पाकर पहुंची पुलिस छानबीन में जुट गई घटना के विषय में बताते चलें कि उक्त गांव निवासी जितेंद्र यादव उम्र 28 वर्ष पुत्र छत्रपाल यादव बीते मंगलवार को अपने दरवाजे के सामने पाइप फैलाकर खेत की सिंचाई कर रहे थे उसी समय उनके गांव का अभिषेक यादव अपने दो अन्य साथियों के साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर जा रहा था

जिससे पाइप फट गई यह देखकर जितेंद्र की भाभी ने विरोध किया तो वे लोग गाली गलौज देते हुए मारपीट पर उतारू हो गए किसी तरह ग्राम वासियो ने मामले को शांत किया

लेकिन बुधवार की सुबह 10:00 बजे के करीब जितेंद्र मंगलवार की घटना का हवाला देते हुए अभिषेक के खिलाफ लिखित शिकायत थाने पर दिया 12:00 बजे के करीब मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों को थाने पर बुलाया 3:00 बजे लगभग जितेंद्र अपने दरवाजे पर चारपाई पर बैठा था और उसकी भाभी रेखा यादव बरामदे में बैठी थी तभी अभिषेक दो अज्ञात लोगों को साथ मोटरसाइकिल से पहुंचा जिसमें दो गमछा से मुह बाधे हुए थे और हाथ में डंडा लेकर भी बैठे थे गाड़ी रोक कर असलहा निकाला

और जितेंद्र के पेट में गोली मार दी घटना को देखते ही भाभी देवर के ऊपर लेट गई तो बदमाशों ने उनको भी मार पीट दिया और मोटरसाइकिल लेकर फरार हो गए मौके पर पहुचे ग्राम वासियो ने दोनो को प्रा़इवेट वाहन पर लादकर सदर लेकर चले गये वहां से दोनों को बेहतर उपचार के लिए वाराणसी के लिए रेफर कर दिया गया

जहां जितेंद्र की हालत नाजुक बनी हुई है इस संबंध में ग्राम वासियों ने बताया कि अभिषेक अपराधी किस्म का था जो आए दिन किसी न किसी घटना को अंजाम देता रहता है जिसका जिक्र जितेन्द्र ने प्रार्थना पत्र मे दिया था लेकिन यहां पुलिस की लापरवाही उजागर हो गई उसे तत्काल पकड़ कर थाने लाई होती ऐसी घटना नहीं घटती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here