दो दिवसीय अखिल भारतीय बैंक हड़ताल 16-17 दिसम्बर, 2021 वाराणसी में पूर्ण तालाबंदी व 400 करोड़ का कारोबार प्रभावित।

0
295

वाराणसी से रविंद्र गुप्ता एवं रोहित सेठ की रिपोर्ट

राष्ट्रीयकृत बैंकों के निजीकरण के विरोध में आज से शुरू दो दिवसीय अखिल भारतीय बैंक हड़ताल के पहले दिन वाराणसी में राष्ट्रीयकृत बैंकों व ग्रामीण बैंकों की समस्त शाखाओं, प्रशासनिक कार्यालयों, मंडल व अचल कार्यालयों में पूर्ण तालाबंदी कर प्रातः से ही यूनाइटेड फोरम आफ बैंक यूनियन्स के बैनरतले बैंक कर्मियों ने नारेबाजी व धरना-प्रदर्शन किया। उक्त तालाबंदी कर कर्मियों ने केन्द्र सरकार के राष्ट्रीयकृत बैंकों के निजीकरण के इस फैसले पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया। यू. एफ. बी. यू. वाराणसी इकाई के नवनिर्वाचित संयोजक श्री अमिताभ भौमिक (पंजाब नैशनल बैंक, अर्दली बजार शाखा के मुख्य प्रबंधक, यू.पी. बैंक इम्पलाइज यूनियन के मंत्री व .वी. यू. एफ. बी. यू. के सह-संयोजक संजय शर्मा तथा यू.पी. बैंक इम्लाइज यूनियन के अध्यक्ष आर. बी. चौबे ने बताया कि आज दो दिवसीय हड़ताल के पहले दिन जिले में संचालित लगभग 350 राष्ट्रीयकृत बैंक की शाखाओं में कार्यरत् 3500 से अधिक बैंक कर्मचारी व अधिकारी हड़ताल पर रहे। उन्होंने बताया कि आज हड़ताल के पहले दिन सिर्फ वाराणसी में लगभग 400 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ व 18 से 20 हजार क्लियिरिंग की चेके ठप पड़ी रही। हड़ताल के चलते कैश लेन-देन, अंतरण व समाशोधन का कार्य ठप रहा व करेन्सी चेस्ट बंद होने के कराण अधिकांश ए.टी.एम. खाली पड़े रहे।

 

-केन्द्र सरकार द्वारा बजट सत्र के दौरान संसद में दो राष्ट्रीयकृत बैंक के निजीकरण करने के संकेत समेत वर्तमान शीतकालीन सत्र में इससे सम्बन्धित बिल लाने की घोषणा के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स ने 16 व 17 दिसम्बर को बैंक हड़ताल करने का ऐलान किया था।

 

यू.एफ.बी.यू. वाराणसी इकाई के आवाहन पर बैंक आफ इंडिया, बैंक आफ बड़ौदा, यूनियन बैंक आफ इंडिया, भारतीय स्टेट बैंक, केनरा बैंक, व पंजाब नैशनल बैंक के मंडल व अंचल कार्यालय पर प्रातः 10.00 बजे से एकत्रित होकर सैकड़ों की संख्या में सदस्यों ने जोरदार नारेबाजी की व विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के उपरान्त पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार वाराणसी जिले के समस्त बैंक कर्मी दोपहर 12.30 बजे भारतीय स्टेट बैंक के कचहरी स्थित अंचल व प्रशासनिक कार्यालय के समक्ष एकत्रित होकर हजारों की संख्या में धरना व विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शन व सभा को साथी अमिताभ भौमिक, साथी संजय शर्मा व साथी आर. बी. चौबे ने सम्बोधित करते हुए कहा कि इस दो दिवसीय हड़ताल से यदि सरकार ने बैंकों के निजीकरण का प्रयास बंद नहीं किया व बैंक संशोधन बिल – 2021 चापस नहीं लिया तो निकट भविष्य में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जायेंगे, जिसके लिये मूल रूप से भारत सरकार जिम्मेदारी होगी।

 

प्रदर्शन व सभा का नेतृत्व कॉ० अमिताभ भौमिक संयोजक, कॉ० आर.बी. चौबे, अध्यक्ष व कॉ० संजय कुमार शर्मा, मंत्री / सह-संयोजक के अतिरिक्त शिवनाथ यादव, प्रमोद कुमार द्विवेदी, दिनेश सिंह, मनोज सिंह, रविन्दर तिवारी, संजय सिंह, रान अली, सुधीर सिंह, विनय गुप्ता, कमल राय, जितेन्द्र कुमार, शीतला प्रसाद दूबे, अरुण तिवारी, बालेश्वर सिंह, आनन्द, भोला, पप्पू, गुड्डू आदि ने किया।

 

हड़ताल के दूसरे दिन समेकित धरना-प्रदर्शन दोपहर 12.30 बजे मकबूल आलम रोड स्थित पंजाब नैशनल बैंक, अंचल कार्यालय के समक्ष आयोजित किया गया है ।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here