शादी के बाद पैसों को लेकर आती हैं ये दिक्कतें? जानें किस तरह फिक्स करें – रिलेशिप टिप

0
120

सलाह : अगर आप प्यार के साथ-साथ पैसों के मामलों पर पहले से बात नहीं करते हैं तो शादी के बाद ही रिलेशनशिप में प्रॉब्लम्स शुरू हो जाती हैं। इससे निपटना जरूरी है वरना इससे तनाव बढ़ सकता है।

अक्सर कहा जाता है कि जहां प्यार होता है, वहां पर रुपये-पैसों की कोई अहमियत नहीं होती है। ऐसी बातें सुनने में अच्छी तो लगती हैं लेकिन वास्तविकता इससे काफी अलग होती है।

अगर आप किसी से प्यार करते हैं तो उसके साथ एक खूबसूरत जिंदगी जीने के सपने देखते हैं। अगर आप प्यार के साथ-साथ पैसों के मामलों पर पहले से बात नहीं करते हैं तो शादी के बाद ही रिलेशनशिप में प्रॉब्लम्स शुरू हो जाती हैं।

शादी के बाद खर्चे अचानक से ही बढ़ जाते हैं। इसे संभालने लिए बैंक बैलेंस अच्छा होना जरूरी है। आइए जानते हैं कि अक्सर शादी के बाद लोगों को किस तरह की फाइनेंशियल प्रॉब्लम्स का सामना करना पड़ता है और इससे कैसे निपटा जा सकता है।

खर्च और बचत की अलग-अलग आदत- जिस तरह हर व्यक्ति का स्वभाव अलग होता है, ठीक उसी तरह उनकी फाइनेंशियल हैबिट्स भी अलग-अलग होती हैं। कई बार ऐसा होता है कि एक पार्टनर (Partner) को बचत करने की आदत होती है तो दूसरे पार्टनर को घूमना-फिरना, शॉपिग करना काफी अच्छा लगता है।

ऐसे में उनके बीच पैसों को लेकर समस्याएं बढ़ जाती हैं और कई बार इससे उनके बीच झगड़े होते हैं। भले ही आप दोनों की आदतें अलग हैं, लेकिन फिर भी आप बीच का एक रास्ता निकाल सकते हैं।

आप अपनी कमाई को तीन हिस्सों में बांट सकते हैं। एक हिस्सा जरूरी खर्चो के लिए, दूसरा बचत के लिए और तीसरे हिस्सा आप घूमने-फिरने पर खर्चे कर सकते हैं। इससे दोनों में से किसी को भी अपना मन नहीं मारना पड़ेगा।

पैसों की बचत ना हो पाना- ये एक ऐसी समस्या है, जो अक्सर झगड़े की वजह बनती है. फैमिली में रहकर लोगों को कई तरह के खर्चे करने पड़ते हैं। ऐसे में बचत का ना होना और उसके चलते झगड़ों का बढ़ना बेहद आम है। कई बार तो पैसों की किल्लत के चलते कपल्स के बीच तलाक तक हो जाते हैं।

अगर आपको ऐसा लगता है कि आप चाहकर भी पैसे नहीं बचा पाते हैं तो ऐसे में बेहतर होगा कि आप एक डायरी बनाएं। इसमें अपनी आमदनी और खर्च का रिकॉर्ड रखें। ऐसा करने से आपको ये समझ में आएगा कि आपका पैसा ज्यादा कहां खर्च हो रहा है और आप इसे किस तरह से सेव कर सकते हैं।

लोन का बोझ बढ़ जाना- शादी के बाद अक्सर लोग एक अच्छी लाइफ जीना चाहते हैं। इसलिए, घर से लेकर गाड़ी तक सब कुछ लोन पर ले लेते हैं लेकिन बाद में उसकी किश्तें कमाई पर भारी पड़ती है। इसका तनाव रिश्ते पर साफतौर पर नजर आता है।

अच्छी जिन्दगी जीने की चाहत रखना गलत नहीं है लेकिन इसके लिए सही प्लानिंग का होना जरूरी है। इसलिए अगर आप लोन लेना चाहते हैं तो पहले यह जरूर देखें कि आप दोनों की इनकम कितनी है और इसलिए आप कितना लोन दे सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here