वाराणसी धर्म-प्रान्त की ओर से सभी काशीवासियों को खीस्त जयंती एवं नव वर्ष की शुभकामनाएँ एक सुखद, सुरक्षित भविष्य के लिए।

0
62

रोहित सेठ

प्रभु ईसा मसीह के जन्म का संदेश समस्त जगत के लिए शान्ति क्षमा एवं करुणा का है जहाँ बन्धु स्नेह की सीमा शत्रु प्रेम है। उनकी शिक्षा हमारे जीवन से हिंसा, स्वार्थ, घृणा, अत्याचार एवं विभाजनकारी शक्तियों का अन्त हो और सभी प्रेम, शान्ति एवं सद्भाव में जीवन बिता सकें।

प्रभु ईसा का जन्म यह घोषित करता है कि ईश्वर ने मानव अवतार लिया है हमारे बीच निवास करने एवं हमारी

मानवीय परिस्थितियों में हमारा सहचर बनकर साथ देने हेतु सचमुच सृष्टिकर्ता ने दीन स्वभाव धारण कर हमारा

साथ देने की कृपा किये हैं।

खीस्त जयंती पर्वोत्सव सबको आमंत्रित करता है कि हम अपने जरुरतमद भाई-बहनों के साथ करुणामय एवं प्रेमपूर्ण व्यवहार करें जिससे हम वसुन्धेय कुटुम्बकम्” सनातन परम्परा को सजीव बना सके।

सारा विश्व कोरोना महामारी का बड़े साहस एवं धैर्य से सामना कर रहा है एक बेहतर कल के लिए। यह अवधि ईसाई भाई-बहनों के लिए अपने विश्वास के नवीनीकरण के लिए आमंत्रित करता है। यह नवीनता अनंत जीवन का सूचक है जिसे प्रभु ईसा ने देने का वचन दिया है। खीस्त जयंती समारोह सभी नगरवासियों में नयी आशा का संचार करें और सब के लिए कल्याणकारी हो।

बनारस एवं निकटवर्ती प्रान्तों के चर्चा में धार्मिक पूजा-अर्चना अर्पित की जायेगी समस्त लोगों की भलाई सुरक्षा एवं

स्वस्थ जीवन के लिए।

इन दिनों में ईसाई समुदाय अपने देश देशवासियों एवं नगरवासियों के मंगलमय जीवन के लिए प्रार्थना वंदना अर्पित करेगा। इस अवसर पर हम सब अपने राष्ट्रीय एवं प्रान्तीय शासकों के लिए विशेष प्रार्थना करते है। ताकि हम सब एक ऐसे समाज का निर्माण करें जहाँ न्याय-शान्ति, भातृप्रेम, एकता सदा बनी रहें।

ईसाई समुदाय जनकल्याण के कार्यों द्वारा जरुरतमंद्र भाई-बहनों के साथ सहानुभुति व्यक्त करता है। विशेषकर बेघर, अनाथ एवं दीन-दुःखी जनता के साथ।

जनवरी 2, 2022 का समारोह, महामारी के सुरक्षा नियमों के अर्न्तगत संत जौन (बी० एल० डब्लू०) B.L.W. प्रागंण में आयोजित किया जायेगा जो नगर के दिव्यांगों के हित के लिए आयोजित किया जाता है। जिससे हम सब उनके साथ नव वर्ष एवं खीस्त जयंती की खुशियाँ बाँट सकें।

प्रभु ईसा समाज के उपेक्षित एवं जनसाधारण लोगों के साथ जीवन बिताए उन्हीं के सदृश्य हम भी दीन-दुःखियों के कल्याण के लिए कार्य कर सकें।

ईश्वर से करबद्ध प्रार्थना है कि हमारे बीच से हर प्रकार की हिंसा एवं शोषण मिट जाये और हमारे नेता, शासक एवं प्रशासक ज्ञान एवं बुद्धिमानी से अपने समाज का संचालन कर सकें। जिससे हर भारतीय स्त्री-पुरुष, बालक-बालिका, बन्धुत्व, समता, न्याय एवं स्वतंत्रता में जीवन बिता सकें।

सभी नगरवासियों को ईश्वर का अनुग्रह, शान्ति और आशीर्वाद मिलें इस नव वर्ष में। खीस्त जयंती एवं नव वर्ष की शुभकामनाएँ आपके सुखद स्वस्थ एवं सुरक्षित जीवन के लिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here