सिंगर वीर दहिया का हुआ काशी आगमन शंखनाद फाउण्डेशन के सदस्यों ने अंगवस्त्र एवं स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मान 

0
437

सिंगर वीर दहिया का हुआ काशी आगमन शंखनाद फाउण्डेशन के सदस्यों ने अंगवस्त्र एवं स्मृति चिन्ह देकर किया सम्मान

वाराणसी से सन्तोष कुमार सिंह की रिपोर्ट

वाराणसी:- विश्व प्रसिद्ध गीत (तेरी आख्या का ये काजल )के सिंगर वीर दहिया का हुआ काशी आगमन |शंखनाद फाउण्डेशन के बैनर पर उपाध्यक्ष सरोज देवी की बेटी के जन्मदिवस के अवसर पर शिवपुर कोट में आयोजित सम्मान समारोह में पधारे प्रसिद्ध हरियाणवी गीत (तेरी आख्या का ये काजल )के लेखक एवं गायक वीर दहिया है़ | सिंगर वीर दहिया ने मीडिया से बातचीत के दौरान बताया की (तेरी आख्या का ये काजल)इस गीत ने सुप्रसिद्ध हरियाणवी डांसर सपना चौधरी को रातो रात स्टार बना दिया। इस गीत को सन 2020 में गूगल सर्च में नम्बर एक स्थान मिला इस गीत ने सपना चौधरी को पहचान, नाम, इज्जत, शोहरत सब कुछ दिया |

समाजसेविका सरोज श्रीवास्तव के अनुरोध पर वाराणसी पधारे श्री दहिया ने एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि मैं वाराणसी में हरियाणवी गीत, संगीत एवं संस्कृति के प्रचार-प्रसार के लिए एक कार्यशाला आयोजित करना चाहता हूँ ताकि नई पीढ़ी हरियाणवी संस्कृति से जुड़ सके | शंखनाद फाउन्डेशन के सौजन्य से अगले महीने में एक कार्यशाला आयोजित की जायेगी।

समाजसेविका सरोज श्रीवास्तव ने बताया कि विभिन्न संस्कृतियों में हमारी गहरी रुचि होने के कारण मैने हरियाणवी संस्कृति से जुड़ने का फैसला लिया इसी कड़ी में प्रथम कार्यशाला आयोजित की जायेगी |

अन्तर्राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता एवं फाउण्डेशन के संरक्षक डॉ० भारत भूषण यादव ने कार्यशाला के प्रति गम्भीर प्रयास करने का संकेत दिया। उन्होंने कहा कि समय – समय पर आयोजनों का क्रम बढ़ाते हुए वीर दहिया के इस प्रयास को आम जनजीवन तक पहुंचाने का प्रयास किया जायेगा।

अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाय से प्रशंसा प्राप्त अन्तर्राष्ट्रीय शंखवादक रामजन्म योगी ने शंखनाद से वीर दहिया का स्वागत किया।फाउण्डेशन के सदस्यों ने भी वीर दहिया का अंग वस्त्रण एवं स्मृति चिन्ह के साथ स्वागत किया गीता मर्मज्ञ एवं युवा साधक आचार्य यदुनायक भूषण ने धन्यवाद ज्ञापित किया ||

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here