Gyanvapi Case: मुस्लिम पक्ष,पैरोकार और जानकार- क्या हैं इनकी दलीलें? सुनकर उड़ जायेंगे आपके होश!

0
108

नई दिल्ली – वाराणसी स्थित श्रृंगार गौरी और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में देश दुनिया की निगाहें अब कोर्ट पर टिकी हैं. इसके इतर संत समाज और इतिहासकार अपने-अपने ढंग से मंदिर को अपना बताने में लगे हुए हैं. तमाम विरोध के बीच काशी में गंगा जमुनी तहजीब कायम है. जिला जज वाराणसी की अदालत में मुकदमे की सुनवाई चल रही हैl
काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में इतिहास विभाग के प्रोफेसर प्रोफेसर राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि औरंगजेब के अपराध और कुकृत्य को छिपाने के लिए मुस्लिम समाज बेशर्मी से झूठ बोल रहा हैl
उन्होंने कहा कि यह मंदिर था मंदिर है और मंदिर ही रहेगा. उन्होंने “मासीरे आलम गिरी” किताब का हवाला देते हुए कहा कि इस किताब में औरंगजेब ने जब-जब मंदिर गिराया है, उसका उल्लेख किया गया हैl

 

उसका लेखक औरंगजेब के काल का ही है, जो उसके दरबार में रहता था यह किताब सबसे अधिक प्रमाणित है. इसमें औरंगजेब के कई फरमान का भी जिक्र है. इतिहास में इसका रिफरेंस कई स्थानों पर मिलता है. राजीव फव्वारे को नकारते हुए कहते हैं कि न तो वहां पर ड्रेनेज सिस्टम है न ही वह फव्वारा है, सिर्फ अपने झूठ पर पर्दा डालने के लिए बार बार झूठ बोला जा रहा है.
‘फौव्वारे को बताया जा रहा है शिवलिंग’
अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी के सचिव एसएम यासीन का दावा है की कोर्ट के आदेश पर हुए सर्वे के दौरान हिंदू समाज जिस शिवलिंग के मिलने का दावा कर रहा है, वह वास्तव में फव्वारा हैl उन्होंने कहा कि अगर मुझे मौका मिलेगा तो मैं उस फव्वारे को चालू करके दिखा सकता हूं, जितने भी पुराने मस्जिद है वहां हौज होता है और हौज में फव्वारा होता है. इससे पानी की सफाई होती है और वह ठंडा भी रहता हैl

मां श्रृंगार गौरी और ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण में वादी लक्ष्मी देवी के पति डॉक्टर सोहन लाल आर्य का दावा है कि ज्ञानवापी मस्जिद नहीं मंदिर है, हम कोर्ट के माध्यम से इसे हर हाल में वापस लेंगे. सन 1984 से उनके मन में बाबा के मुक्ति का संकल्प हैl इसके लिए उन्होंने लगातार कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और कई आंदोलन किए. 2021 में भी महिलाओं को संगठित करके अदालत में वाद दाखिल करायाl

मां श्रृंगार गौरी और ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण में वादी सीता साहू का दावा है कि ज्ञानवापी में मां श्रृंगार गौरी का पूरा परिवार हैl
महादेव, गणेश, कार्तिक मंदिर के अंदर हैं. साल भर में सिर्फ 1 दिन मां की चौखट के दर्शन होते हैं. इससे दुखी होकर दर्शन करने आने वाली 4 महिलाओं ने वरिष्ठ अधिवक्ता हरिशंकर जैन के माध्यम से आखिरकार 2021 में वाद दाखिल किया थाl
काशी हिंदू विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग के अध्यक्ष और रिटायर्ड प्रोफेसर राणा पीवी सिंह ने कहा कि ज्ञानवापी से जुड़े कथाओं को न बताएं, उसकी वैज्ञानिकता और प्रमाणिकता भी बताएंl
प्रोफेसर राणा पीवी सिंह का कहना है कि बीएचयू में इतना बड़ा विभाग है लेकिन आज तक इस विषय पर कोई शोध नहीं किया गया. उन्होंने कहा काशी को टूरिज्म प्लेस कहना दुखदाई है, काशी मोक्ष की नगरी है, तीर्थ स्थल है. विदेशी भी काशी की आबोहवा में भगवान को ढूंढने आते हैं. यहां वर्तमान में जो भी हो रहा है, यह सिर्फ दो लोगों को खुश करने के लिए हो रहा है, यह ठीक नहीं हैl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here