आइये जानते है हमारे भारत कि आर्थिक स्थिति के बारे में …

0
82

बढ़ते महंगाई के चलते हमारे भारत कि इन देशो कि कैसी हालत …

कोरोना ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है। वहीं कोरोना महामारी और गलत आर्थिक नीतियों की वजहों से कुछ देशों की स्थिति बहुत खराब हो गई है। इस वजह से इन देशों में महंगाई काफी ज्यादा हो गई है। इनमें हमारे पडोसी देश पाकिस्तान और श्रीलंका भी शामिल हैं। आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से इन देशों के हाल इतने बदहाल हो गए हैं कि कहीं गैंस सिलेंडर के दाम कि बढ़ोतरी हो गई है। खाने—पीने की चीजें भी बहुत महंगी हो गई हैं।

चलिए जानते हैं इन देशों में क्या हाल हैं…

पाकिस्तान में हाल बुरे
पाकिस्तान के हाल बहुत बुरे हैं। यहां रसोई गैस की कीमतों ने लोगों की नींद हराम की हुई है। यहां घरेलू गैस सिलेंडर के दाम 2,560 रुपए पर पहुंच गए हैं। वहीं, कॉमर्शियल गैस सिलेंडर के दाम 9,847 रुपए हो गए हैं। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पाकिस्तान में दूध के दाम 150 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गए हैं। इसके अलावा यहां चीनी 100 रुपये प्रति किलोग्राम और गेहूं 70 रुपये प्रति किलोग्राम मिल रहे हैं।

देश की आर्थिक स्थिति और महंगाई की वजह से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की नींद भी हराम हो गई है। उन्होंने खुद इस बात को स्वीकारा है कि उनका देश काफी अधिक महंगाई का सामना कर रहा है। उन्होंने कहा है कि उनके देश में कमोडिटीज और फ्यूल की कीमतें काफी तेजी से बढ़ रही हैं और बढ़ती महंगाई की वजह से उन्हें नींद नहीं आ रही है।

श्रीलंका में भी महंगाई चरम पर
वहीं कोरोना की वजह से श्रीलंका में भी हालात बुरे हैं। यहां महंगाई चरम पर पहुंच गई है। लोग भूखे रहने को मजबूर हो रहे हैं। विश्व बैंक का अनुमान है कि महामारी शुरू होने से श्रीलंका में अब तक पांच लाख लोग गरीबी रेखा की नीचे चले गए हैं। श्रीलंका में 100 ग्राम मिर्च की कीमत 18 (श्रीलंकाई) रुपए से बढ़कर 710 (श्रीलंकाई) रुपए हो गई है। इसके साथ ही यहां आलू के दाम 200 रुपए प्रति किलोग्राम पर पर पहुंच गए हैं। यहां एक किलो बैंगन 160 रुपए में मिल रहे हैं। वहीं भिंडी के दाम 200 रुपए प्रति किलोग्राम और गाजर 200 रुपए प्रति किलोग्राम पर पहुंच गए हैं।

वेनेजुएला में महंगाई दर 686.4 फीसदी पर
इक्षिण अमरीकी देश वेनेजुएला में भी लोग महंगाई की मार झेल रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, यहां वर्ष 2021 में सालाना महंगाई दर 686.4 फीसदी पर रही। वहीं 2020 में देश में महंगाई की दर 2,959.8 फीसदी पर पहुंच गई थी। इसी वजह से यहां खाने—पीने की चीजों के दाम काफी ज्यादा बढ़ गए। यहां तक की लोग महंगाई के खिलाफ सड़कों पर भी उतर गए थे। यहां वर्ष 2019 में देश में 5 टमाटर की कीमत 50 लाख बोलिवर (वेनेजुएला की करेंसी) पर पहुंच गई थी।

सीरिया और सूडान में भी हाल खराब
सीरिया में ईंधन की कीमतों में तेजी की वजह से सब्जियों और फलों के दाम काफी बढ़ गए हैं। यहां बिना सब्सिडी का डीजल 1700 सीरियन पाउंड पर पहुंच गया। वहीं बिना सब्सिडी वाले 90 ऑक्टेन गैसोलिन की कीमत 2500 सीरियन पाउंड हो गई। अफीक्री देश सूडान में भी महंगाई चरम पर है। सूडान में चीनी और गेहूं के दाम काफी अधिक बढ़ गए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here