इस साल पिछली सीट बेल्ट यूज नहीं करने पर एक भी चालान नहीं,इरस मिस्त्री की मौत से दिल्ली पुलिस की अनदेखी उजागर

0
22

इरस मिस्त्री की मौत से दिल्ली पुलिस की अनदेखी उजागर, इस साल पिछली सीट बेल्ट यूज नहीं करने पर एक भी चालान नहीं

नई दिल्ली. दिल्ली की ट्रैफिक पुलिस ने इस साल पिछली सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करने के लिए किसी के खिलाफ मामला दर्ज या चालान नहीं किया है. हालांकि पिछले साल ट्रैफिक पुलिस द्वारा 43 लोगों को पकड़ा गया था. मोटर वाहन अधिनियम में पीछे की सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करने वाले लोगों को दंडित करने का प्रावधान है, लेकिन इसे शायद ही कभी लागू किया गया हो. ट्रैफिक नियमों के अनुसार कार में सवार सभी यात्रियों को सीट बेल्ट पहनना जरूरी है.

हाल ही में एक दुर्घटना में व्यवसायी साइरस मिस्त्री की मौत ने पीछे की सुरक्षा बेल्ट की अनदेखी के जोखिमों को उजागर किया है. टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले साल पिछली सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करने के लिए 43 चालान जारी किए गए थे, जबकि सामने की सीट बेल्ट का उपयोग नहीं करने के लिए 62,190 लोगों के चालान किए गए है. वहीं इस साल 31 अगस्त तक, फ्रंट बेल्ट उल्लंघन करने वालों की संख्या 36,084 थी और एक भी व्यक्ति को रियर बेल्ट उल्लंघन के लिए चालान नहीं किया गया था.

विशेष आयुक्त यातायात एसएस यादव ने का कहना है कि संख्या कम हो सकती है लेकिन हमारे दिमाग में एक योजना है. हम लोगों को शिक्षित करने और प्रवर्तन और दंड पर ध्यान केंद्रित करेंगे. हम ऑटोमोबाइल उद्योग के साथ एक कार में लोगों की संख्या का रिकॉर्ड रखने के लिए एक प्रणाली पर चर्चा करेंगे. उन्होंने कहा कि जब फ्रंट सीट बेल्ट का उपयोग नहीं किया गया था तो अलार्म बीपिंग की वर्तमान विशेषता को रियर बेल्ट को शामिल करने के लिए विस्तारित किया जा सकता है. यादव ने कहा कि बच्चों को विशेष रूप से पीछे की बेल्ट का उपयोग करना चाहिए.

यादव ने कहा कि हमने दोपहिया सवारों को हेलमेट के उपयोग पर अभियान चलाया था. हमने लोगों को हेलमेट पहनने की आवश्यकता के बारे में सिखाकर शुरुआत की थी. ठीक उसी तरह हम सीट बेल्ट के लिए भी सोशल मीडिया और सड़कों पर जागरूकता अभियान चलाएंगे. इसके बाद अगर कोई नहीं मानता तो है तो हम चालान की प्रक्रिया शुरू करेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here