जनीए आज का खास बात शादीशुदा जिंदगी को पूरी तरह तहस कर सकती है | जनीए ये 8 आदतें, जान लो कि कैसे बदल पाए अपने तौर तरीके

0
38

किसी भी रिश्ते को जन्म जन्मांतर तक बनाए 

जिम्मेदारी दोनों पार्टनर की होती है। यूं तो हर एक नव युवक कि  जिंदगी में परेसानी चलना एक आम बात होती है |

लेकिन कई बार ऐसी छोटी-छोटी परेसानी ही बहुत बड़ी मुसीबत का कारण बन जाता है,और कई बार तो मामूली कहासुनी इतनी हो जाती है की नौबत तलाक तक भी आ जाती है।

 ये 8 आदते जान लो 

 ये बातआपने सुना होगा कि पुराने युग में इस तरह तलाक आदि के मामले बहुत कम देखने को मिलते थे। लेकिन बीते कुछ सालों में भारत में तलाक के मामले काफी ज्यादा बढ़ने लगे हैं। क्योंकि आजकल जरा सी बात पर ही लोग आपा खो देते हैं और लड़ाई करने लगते हैं।

आज हम आपको कुछ ऐसे कारणों आप को बताने जा रहे है, जो रिलेशनशिप में तलाक का कारण बनती हैं।

इन्हे ध्यान में रख आप अपना रिश्ता टूटने से बचा सकते हैं। आइये जानते हैं इन कारणों के बारे में क्या है |

1  मैरिटल अफेयर

अगर आप का पार्टनर अपने जीवनसाथी को धोखा देता है और किसी अन्य के साथ रिश्ता रखता है।तो ऐसे में तलाक की नौबत आना संभव है ऐसे में एक बार बदलाव आने के बाद भी ऐसे जीवन साथी पर भरोसा करना मुश्किल हो जाता है। अधिकतर तलाक का कारण एकस्ट्रा मैरिटल अफेयर का ही होता है।

2 फाइनेंस को लेकर दिक्कत

 सब पैसा रिश्तों में अक्सर कड़वाहट का कारण बनता है जब दो लोगों में से कोई एक ज्यादा या कम कमाता है तो इससे सामने वाले के मन में हीन भावना आने लगती है। क्योंकि कई बार रिलेशनशिप में एक पार्टनर खर्चीला तो दूसरा सेविंग के प्रति अलर्ट होता है तो ऐसे में खर्चे का बैलेंस ना बनने पर अक्सर लड़ाई झगड़े का माहौल बना रहता है।

3 बात ना करना

अब बता दिया जाय कम्यूनिकेशन गैप लड़ाई झगड़े केवल अहम वजह होती है,कम्यूनिकेशन गैप की वजह कई बार घर परिवार भी बन जाता है। वहीं कई बार अपने मन की बात ना कह पाने और एक दूसरे के लिए समय ना निकालने से भी तलाक की नौबत आ जाती है।

4 प्यार और भरोसे में कमी

 मैरिटल थेरेपी में तलाक को लेकर एक स्टडी प्रकाशित हुई थी। स्टडी के लिए तलाक ले चुके 2371 लोगों से बातचीत की गई। कपल से पूछा गया कि तलाक के पीछे सबसे बड़ी वजह क्या रही ?

 जानीए स्टडी का रिजल्ट चौंकाने वाला था। लगभग आधे यानी 47 फीसदी लोगों ने प्यार और इन्टिमेसी की कमी को तलाक की वजह बताया। साथ ही यह भी पता चला कि एक या दोनों पार्टनर का अपने साथी के लिए प्रेम खत्म हो गया था।

5 सेल्फ रिस्पेक्ट किआदत 

 अगर दो लोग जब आपस में एक साथ रहना शुरू कर देते तो बहुत सी ऐसी बातें वह एक दूसरे से शेयर करते हैं जो अच्छी भी होती है और बुरी भी ऐसे में वे एक दूसरे के प्रति काफी खुल जाते हैं,कई बार एक व्यक्ति कुछ ऐसी बात कह देता है जिससे सामने वाले के दिल को ठेस पहुचना लगती है 

ऐसे में महिलाएं इस चीज का ज्यादा शिकार पाई जाती हैं क्योंकि अक्सर पति या ससुराल पक्ष से कुछ ऐसी बात पत्नी को कह दी जाती है,जो उसके दिल कि ठेस पहुंच जाती है और अक्सर तलाक का कारण बन जाता है 

6 फैमिली की जिम्मेदारियां में 

 अगर फैमिली में अक्सर तलाक का कारण पारिवारिक जिम्मेदारियां भी होता है,क्योंकि
फैमिली में पति-पत्नी के अलावा बच्चे भी होते हैं और जब दोनों ही पति-पत्नी वर्किंग होते हैं तो उन्हें बहुत सी चीजों को खुद ही मैनेज करना पड़ता है जैसे कि घर की साफ-सफाई, खाना बनाना, बच्चों की जिम्मेदारी जैसी चीजें, मेरी दोनों तरफ से कम्युनिकेशन बराबर नहीं होता और पति पति एक दूसरे को कॉर्पोरेट नहीं करते तो ऐसे ही रिश्ते में कड़वाहट आना मामूली बात है।

7 कम्युनिकेशन परेसानी 

कम्युनिकेशन के समय में कपल्स के बीच में एक बहुत सेंसटिव मामला है, बता दें कि 44 फीसदी लोगों ने तलाक के लिए आपस में होने वाली बातचीत को लेकर समस्या जताई। जो पहले की कपल्स में से लड़का और लड़की दोनों की आदतें अलग होती हैं ऐसे में दोनों का बात करने का और व्यवहार अलग अलग होता है इसी आपसी तालमेल के ना बनने के कारण बात तलाक तक जा पहुंचती है।

8 जरूरत से ज्यादा उम्मीदें न करने के 

 जनीए रिलेशनशिप में अपने जीवनसाथी से जरूरत से ज्यादा उम्मीद तलाक का एक मुख्य कारण है वही मान लीजिए यदि आपका पार्टनर आपकी उम्मीद के हिसाब से कोई कार्य नहीं करता तो दूसरे के मन में परेसानी आ जाती है ऐसे में तलाक होना संभव हो जाता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here