जौनपुर।वाराणसी के होटल संचालक की अवैद्य सम्बन्धो के चलते होटल के ही नौकर जीजा,साले ने मिलकर हत्या को दिया

0
232

वाराणसी के होटल संचालक की अवैद्य सम्बन्धो के चलते होटल के ही नौकर जीजा,साले ने मिलकर हत्या को दिया

जौनपुर- वाराणसी के होटल व्यापारी व्यापारी बृजेश सिंह उर्फ बबलू हत्याकाण्ड का पुलिस ने 14 घण्टे के अंदर पर्दाफास कर दिया है।

इस मामले में पुलिस ने एक महिला समेत चार लोगो को गिरफ्तार किया है। उनके पास हत्या में प्रयोग किया गया लोहे की राड व हत्या में प्रयुक्त ईंट को बरामद किया है। आईजी वाराणसी के. सत्यनारायण के अनुसार बबलू की हत्या आशनाई के चक्कर में उसके लान का कर्मचारी अपने जीजा व अन्य सहयोगियों के साथ मिलकर किया था।

शव को छिपाने के जिले केराकत थाना क्षेत्र के सोहनी गांव में गेंहू के खेत में फेक दिया था। घटना के अनावरण पर आईजी ने एसपी सिटी,सीओ केराकत को प्रस्सति पत्र व एसओजी टीम व केराकत पुलिस को 20 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की ।

बता दें कि जिले के केराकत कोतवाली क्षेत्र के सोहनी गांव में सोमवार की सुबह गेंहू के खेत में एक युवक का खून से लथपथ व शव की शिनाख्त छिपाने के लिए कपड़े जलाए गए थे घटना के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैल गयी थी।

सूचना मिलते ही सीओ केराकत शुभम तोदी समेत भारी पुलिस फोर्स मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेने के बाद मृतक की शिनाख्त करने का प्रयास किया काफी समय बीत जाने के बाद भी उसकी पहचान नही हो सकी तो पुलिस शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। 21 मार्च को मृतक की पहचान बृजेश कुमार सिंह उर्फ बबलू पुत्र चंद्रमोहन निवासी पहडिया वाराणसी के रूप में हुई।

केराकत पुलिस ने मृतक के भाई की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज करके जांच पड़ताल शुरू कर दी। एसपी ने इस हत्याकाण्ड का पर्दाफास करने के लिए केराकत पुलिस के साथ स्वाट टीम और सर्विलांस टीम को लगाया। ये टीमें संयुक्त रूप से इस ब्लाइड मर्डल का खुलासा कर दी।

पत्रकार वार्ता के दौरान आईजी वाराणसी के.सत्यनारायण ने आज पुलिस लाइन में पत्रकारों को पूरे घटना क्रम की जानकारी देते हुए बताया कि मृतक शराब और शबाब का शौकिन था। जब वह शराब पीता था वह अपने कर्मचारी मनीष पाल के बहन के ससुराल पहुंच जाता था। इसी तरह घटना वाली रात भी वह अपने मैरेज हाल पर जमकर दारू पिया और मुर्गा खाने के बाद घर से अपनी कार लेकर सीधे अपने कर्मचारी के बहन घर पहुंच गया।

उसके जीजा से कहा कि आप अपने घर में रहे ये मेरे साथ जायेगी। इसी बात को लेकर विवाद हुआ तो बहन अपने भाई को पूरी घटना की जानकारी दी तो भाई अपने एक साथी के साथ मौके पर पहुंच गया। मालिक और कर्मचारी के बीच गाली गलौज हुआ इसी बीच कर्मचारी ने कार में रखी एक लोहे की राड से बृजेश के सिर पर प्रहार कर दिया। जिससे उसकी मौत हो गयी। उसके बाद कर्मचारी मृतक की कार से ही उसका शव लेकर केराकत थाना क्षेत्र के सोहनी गांव में ले जाकर एक गेंहू के खेत में फेक दिया।

इस मामले में एसओजी टीम के प्रभारी आदेश त्यागी की अहम भूमिका रही और केराकत पुलिस ने सर्विलांस की मदद से आरोपी मनीष पाल,दीपक पाल,नितिन पाल और सरोजा पाल निवासी वराणसी को गिरफ्तार कर लिया,वही खुलासा करने वाली टीम को आईजी 20 हजार रुपया नगद देने की घोषणा की है,क्योकि इस खुलासे को लेकर जितना जौनपुर पुलिस के लिए सर दर्द था उतना ही वाराणसी पुलिस के लिए भी सर दर्द बना हुआ था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here