जौनपुर न्यूज़ – नीली बत्ती वाला फर्जी अधिकारी गिरफ्तार : अभियुक्त खुद को ACS HOME का रिश्तेदार बताता,अधिकारियों को बोलता- सचिवालय में नौकरी लगवा दूंगा

0
77

उत्तर प्रदेश (जौनपुर) – पुलिस ने फर्जी आईएएस अधिकारी की लाल नीली बत्ती लगी गाड़ी को बरामद किया है। इस दौरान पुलिस ने अभियुक्त के पास से लैपटॉप,आईपैड और तीन मोबाइल फोन भी बरामद किए हैं। पुलिस का यह वर्कआउट वाहन चेकिंग के दौरान हुआ है। गिरफ्तार किए गए अभियुक्त ने अपना नाम हिमांशु कनौजिया बताया है।

कैसे हुआ खुलासा
चुनाव के मद्देनजर जौनपुर कोतवाली पुलिस वाहन चेकिंग अभियान चलाई हुई थी। वाहन चेकिंग अभियान के दौरान पुलिस संदिग्ध गाड़ियों को रोक कर पूछताछ कर रही थी। इस दौरान जौनपुर कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक सतीश सिंह एसओजी टीम के साथ संदिग्ध गाड़ी को रोकते हैं। गाड़ी में लाल नीली बत्ती लगी रहती है। वाहन में बैठा हुआ व्यक्ति खुद को ACS होम का रिश्तेदार बताता है। पुलिस सम्मान पूर्वक और मर्यादित ढंग से पूछताछ करती है। लेकिन वाहन में बैठा हुआ व्यक्ति पुलिस को अपने प्रभाव में लेने लगता है।

ई चालान एप से गाड़ी के मालिक का पता लगा
गाड़ी नंबर यUP 32 BG 6626 में नीली बत्ती लगी होने पर पुलिस ने चालान एप से गाड़ी के मालिक का पता लगाया। रजिस्ट्रेशन नंबर पर मालिक का नाम एग्जीक्यूटिव इंजीनियर लखनऊ डिविजन शारदा कैनाल लिखा हुआ आया। S-CROSS गाड़ी की जगह रजिस्ट्रेशन नंबर में स्विफ्ट डिजायर लिखा हुआ था। इसके बाद पुलिस ने युवक से कड़ाई से पूछताछ की।

पूछताछ में बताया सच
पुलिस ने जब युवक से कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपना नाम हिमांशु कनौजिया बताया। गाड़ी की जामा तलाशी ली गई तो उसमें से एक लैपटॉप, आईपैड, 3 मोबाइल फोन और एक मोबाइल एप्लीकेशन इंस्टॉल मिला। उसके पास से पिस्टल नुमा लाइटर भी बरामद किया गया है।

मोबाइल एप से CUG नम्बर बनाता था
हिरासत में लिए गए अभियुक्त के मोबाइल फोन से है फन कॉल एप इंस्टॉल मिला। इस एप्लीकेशन के माध्यम से अभियुक्त फर्जी रूप से सीयूजी नंबर बना लेता था। शिवजी नंबर बनाने के बाद से अभी कॉल करता था। कूट रचित तरीके से उसने अपनी गाड़ी पर सरकारी नंबर प्लेट लगाया था।

ACS होम का रिश्तेदार बताता था
गिरफ्तार किया हुआ अभियुक्त अपने आप को एसीएस होम का रिश्तेदार बताता था। कई थाने के दरोगा और अधिकारियों को नौकरी का हवाला देकर फोन करता था। इसके अलावा उसने कई लोगों को सचिवालय में नौकरी लगवाने का हवाला भी दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here