बचपन का खेल (कए गुण देती )है ?

0
26

बचपन के खेल:कई गुण देते हैं पारम्परिक खेल, बच्चों  जीवनशैली में इन्हें शामिल कर

 

1 हम में से अधिकतर लोग गुल्ली-डंडा, पिट्‌ठू, कंचे आदि खेल खेलते हुए बड़े हुए हैं। मोबाइल गेम्स ने इन पारम्परिक खेलों को लील लिया है। लेकिन यह निर्विवाद सत्य है जो गुण व लाभ इन खेलों से मिलते हैं, वो मोबाइल से अप्राप्त ही रहेंगे। इनके फ़ायदों को जानिए हर पृष्ठ पर…

ध्यान से  पड़े 

  2-  कंचे, गुल्ली-डंडा या लट्‌टू जैसे खेल ध्यान बढ़ाने में मदद करते हैं। साथियों का विपक्षी टीम के खिलाड़ियों को पराजित करने के लिए योजना बनाना बेहतर रणनीति बनाना सिखाता है। सटीक निशाना लगाने के साथ-साथ विपक्षी टीम को छकाते हुए पुन: पत्थर कैसे जमाए जाएं, ख़ूब दौड़-भाग, उठक-बैठक सब शामिल है पिट्‌ठू में। प्रतिस्पर्धा के साथ-साथ सहयोग करना भी खेल से सीखा जा सकता है। बच्चों में संज्ञानात्मक व्यवहार (कॉग्निटिव बिहेवियर) भी बेहतर होता है।

3-  गिप्पा या लंगड़ी टांग (स्टापू,  ), कंचे, गुट्टे आदि जैसे खेल अंकों पर आधारित होते हैं जिन्हें खेलने से गणित बेहतर होता है। इन्हें खेलने का  भी है कि खेल के दौरान तर्क-वितर्क और झगड़ों में समझौता करना सीखते हैं। वहीं गिप्पा शारीरिक स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है। एक टांग पर खड़े होकर कूदते हुए चलना शारीरिक संतुलन बनाना सिखाता है और शरीर का तालमेल भी विकसित होता है।

 इससे धैर्य भी बढ़ाता है

4 – कुछ खेल ध्यान और चेतना के साथ खेले जाते हैं। रुमाल झपट, लट्‌टू और घोड़े पर दाम जैसे खेलों में पूरा ध्यान रुमाल और लट्‌टू पर लगाना होता है। वहीं आंख मिचौनी में आंखें बंद करके साथी को ढूंढना भी आसान नहीं है। खेल में जीत पाने के लिए कई कठिनाइयों से गुज़रना पड़ता है। योजनाबद्ध ढंग से रुमाल या साथी को झपटने के लिए धैर्य की आवश्यकता होती है। और नपे-तुले क़दमों व फुर्ती की भी। कसरत का ये बेहतरीन ज़रिया है।

सहायता  से खेलते हैं

5-  ये  खेल मिलकर खेले जाते हैं, जैसे कि पिड्‌डू, चेन, विष-अमृत ( पानी) नदी-पहाड़ आदि। दो विपक्षी टीम होती हैं, जो अपनी-अपनी टीम को जिताने के लिए हर मुमकिन कोशिश करती हैं। एक-दूसरे को बचाना, हाथ पकड़कर दौड़ लगाना, इस तालमेल के साथ खेले जाते हैं ये खेल। दौड़-भाग वाले ये खेल बच्चों में टीमवर्क या एकजुट होकर काम को पूरा करने का जज़्बा भी बढ़ाते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here