वाराणसी  पीएम काशी को देंगे 1812 करोड़ की सौगात।

0
27

 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के 7 जुलाई को प्रस्तावित वाराणसी दौरे को लेकर भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश चंद श्रीवास्तव ने सर्किट हाउस में प्रेस वार्ता कर कार्यक्रम के बारे में जानकारी दिया। पीएम मोदी वाराणसी में 591.54 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण एवं 1220.6 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे।

 

✓✓ *मानसिक चिकित्सालय अपडेट:* आज एक मरीज की फिर हुई मौत। मिली जानकारी के अनुसार अज्ञात मरीज पता सोनभद्र सीजेएम वाराणसी के निर्देश पर भर्ती कराया गया था। कल से ही उसकी तबियत खराब थी। आज उसे मंडलीय चिकित्सालय वे जाया गया। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। मानसकि अस्पताल में एक माह के अंदर यह छठी मौत है।

 

✓✓ *पड़ाव मुगलसराय मार्ग पर भीषण सड़क हादसा*

 

मुगलसराय कोतवाली क्षेत्र के पड़ाव-मुगलसराय मार्ग पर दाड़ी ताल के पास सड़क हादसे में दो युवकों के मौत

 

तेज रफ्तार से जा रहे युवक ट्रक से टकराने के बाद डिवाइडर से जा भिड़े, दोनों की मौके पर ही मौत| जिसमें एक युवक की पहचान मुगलसराय पड़ाव जलीलपुर पुलिस चौकी वाराणसी थाना सारनाथ पंचकोशी चौहान बस्ती के रूप में हुई है।

 

✓✓ sarरनाथ क्षेत्र में नगर निगम की कूड़ा उठान की सभी गाड़ियां खड़ी हैं। पिछले कुछ महीनों से पेमेंट ना मिलने से गाड़ियों का चक्का जाम कर कर्मचारी हड़ताल पर।

 

✓✓ *7 जुलाई को पीएम नरेंद्र मोदी का वाराणसी दौरा*

 

कई परियोजनाओं का पीएम करेंगे शिलान्यास

 

1800 करोड़ से अधिक की परियोजनाओं का शिलान्यास

 

अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन करेंगे

 

पीएम अक्षय पात्र मध्याह्न भोजन रसोई का उद्घाटन|

 

✓✓ *सराहनीय कार्य*

 

रोहनिया/-राजातालाब थाना क्षेत्र के कंठीपुर निवासिनी प्रेमिका व बहोरनपुर निवासी प्रेमी की शादी मंगलवार को चौकी प्रभारी मातलदेई व कुछ सम्भ्रांत ब्यक्तियो के उपस्थिति में चौकी मातलदेई में धूमधाम से हुआ सम्पन्न।

 

✓✓ हरहुआ स्थानीय विकासखंड के अंतर्गत ग्राम सभा हरहुआ में पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह द्वारा बरगद का पौधा लगाकर करके वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया

 

✓✓ आरती सिंह आईपीएस अपर पुलिस उपायुक्त अभिसूचना को कार्यवाहक पुलिस उपायुक्त वरुणा जोन बनाया गया।

 

✓✓ *पुलिस उपायुक्त आदित्य लांग्हे वरुणा जोन का स्थानान्तरण हो जाने के कारण पुलिस उपायुक्तों एवं अपर पुलिस उपायुक्तों का कार्य आवंटन निम्न प्रकार किया गया*

 

“””श्री आरती सिंह आईपीएस अपर पुलिस उपायुक्त अभिसूचना को *कार्यवाहक पुलिस उपायुक्त वरुणा जोन बनाया गया।*

 

“””श्री विक्रांत वीर आईपीएस पुलिस उपायुक्त अभिसूचना एवं सुरक्षा को *पुलिस उपायुक्त अभिसूचना एवं सुरक्षा के साथ -साथ पुलिस लाइंस के कार्यो का भी पयर्वेक्षण करेंगे।*

 

“”श्री संतोष कुमार मीना अपर पुलिस उपायुक्त / सहायक पुलिस आयुक्त – सहायक पुलिस आयुक्त चेतगंज को *अपर पुलिस उपायुक्त मुख्यालय के साथ साथ सहायक पुलिस आयुक्त चेतगंज के दायित्वों का भी निर्वहन करेंगे।*

 

“” श्री लखन सिंह यादव अपर पुलिस उपायुक्त / सहायक पुलिस आयुक्त – सहायक पुलिस आयुक्त कैंट को अपर पुलिस उपायुक्त अपराध के साथ साथ सहायक पुलिस आयुक्त कैंट के दायित्वों का भी निर्वहन करेंगे।

 

✓✓ *” काशी के लाल दिलीप सोनकर वाराणसी के सांसद एवं देश के प्रधानमंत्री मोदी से की मार्मिक अपील,* सीरियल को प्रसारित करने के लिए दूरदर्शन से अनुमति दिलाने की अपील *”क्रान्ति लेखा” टीवी श्रृंखला के ज़रिए जीवन्त होंगे संपादकाचार्य पराड़कर जी – दिलीप सोनकर*

 

वाराणसी। वर्तमान समय में अतरंगी टीवी चैनल पर प्रसारित टीवी श्रृंखला “परशुराम” के निर्माण में लगे काशी के लाल, निर्माता दिलीप सोनकर का अगला अतिमहत्वाकांक्षी धारावाहिक ” क्रान्ति लेखा ” के निर्माण की योजना पिछले वर्ष बनाई जा चुकी है |इस धारावाहिक को दूरदर्शन के ज़रिए हिंदुस्तान के लोगों तक पहुंचे, इस बाबत इसे प्रसारित करने के लिए दूरदर्शन महानिदेशालय , नई दिल्ली से अनुमति मांगी गई है| टीवी श्रृंखला “क्रान्ति लेखा ” में संंपदाकाचार्य बाबू राव विष्णु पराड़कर को जीवन्त किया जाएगा |इसके निर्माण और प्रसारण में हो रही देरी का कारण दूरदर्शन के उच्चाधिकारियों के उदासीनता प्रमुख कारण है | निर्माता ने बताया की अनुमति मिलते ही इसके निर्माण को शुरू किया जा सकता है चूंकि धारावाहिक के निर्माण की सारी तैयारियां प्राय: प्रोडक्शन हाउस ने पूरी कर ली हैं | दूरदर्शन पर प्रसारण के लिए पिछले साल ही आवदेन किया गया था | इस धारावाहिक निर्माण के लिए कई मर्तबा केंद्रीय सूचना एवम् प्रसारण मंत्रालय को अवगत भी कराया जा चुका गया है | इस टीवी श्रृंखला में बाबूराव विष्णु पराड़कर जी के जीवन और उनके आंदोलनों को केंद्रित किया गया है | पराड़कर जीे के ऐतिहासिक योगदान को देखते हुए इस टीवी श्रृंखला का नाम “क्रान्ति लेखा “किया गया है |

ज्ञातव्य हो कि बाबूराव विष्णु पराड़कर हिन्दी के जाने-माने पत्रकार, साहित्यकार एवं हिन्दी सेवी थे। उन्होने हिन्दी दैनिक ‘आज’ का सम्पादन किया। भारत की आज़ादी के आंदोलन में अख़बार को बाबूराव विष्णु पराड़कर ने दोधारी तलवार की तरह उपयोग किया। उनकी पत्रकारिता ही क्रांतिकारिता थी। उनके युग में पत्रकारिता एक मिशन हुआ करता था। एक जेब में पिस्तौल और दूसरी में गुप्त पत्र ‘रणभेरी’ तथा हाथों में ‘आज’, ‘संसार’ एवम् कमला’ जैसे समाचार पत्रों को संवारने और जुझारू तेवर देने वाले लेखनी के धनी पराड़कर जी ने जेल जाने से लेकर अख़बार की बंदी, अर्थदंड जैसे दमन की परवाह किये बगैर पत्रकारिता का वरण किया। मुफलिसी में सारा जीवन न्यौछावर करने वाले पराड़कर जी ने आज़ादी के बाद भी देश की आर्थिक गुलामी के ख़िलाफ़ धारदार लेखनी चलाना ज़ारी रखा। मराठी भाषी होते हुए भी हिंदी के इस सेवक की जीवनयात्रा अविस्मरणीय हैं | श्री, सर्वश्री, राष्ट्रपति, नौकरशाही, संघटन, सविंधान , संसद , राष्ट्रपति , वायुमंडल , मुद्रास्फीति, लोकतंत्र, सुराज्य, वातावरण, काररवाई और अन्तरराष्ट्रीय आदि सैकड़ों शब्दों को हिंदी भाषा से जोड़ा और इन्हें प्रचलन में लाकर समृद्ध भी किया । निर्माता निर्देशक दिलीप सोनकर का कहना है कि इनके जीवन संघर्ष को टीवी श्रृंखला ” क्रान्ति लेखा ” के ज़रिए जीवन्त करने का अथक प्रयास होगा | टीवी श्रृंखला क्रान्ति लेखा की गाथा सन् 1903 से बंग – भंग जैसे मुद्दों से शुरू किया जायेगा | धारावाहिक में काशी के सांस्कृतिक महत्व और काशी के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के साथ पराड़कर जी ने किस प्रकार आज़ादी में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है, सभी पहलुओं को दर्शाया गया है, ताकि देश की युवा पीढ़ी को अनगिनत क़ुर्बानियो के बदले मिली आज़ादी का मूल्यांकन कराया जा सके । सोनकर ने बताया की “क्रान्ति लेखा ” की परिकल्पना राष्ट्रीय आन्दोलन जब अपनी धार पकड़ रहा था और महात्मा गांधी की वैचारिक ज़मीन जोती जा रही थी उस समय के साथ किया गया है | सन् 1930 में प्रेस एक्ट के कारण प्रेस पर प्रतिबंध होते हुए भी बाबूराव विष्णु पराड़कर ने बनारस से भूमिगत अख़बार ” रणभेरी” निकाला था। स्वतंत्रता आंदोलन में प्रिंट मीडिया और कलम के सिपाहियों से ब्रिटिश सरकार को पार पाना मुश्किल हो गया था ,बनारस की अंजान गलियों और बेनाम मुहल्लों से संचालित होती रहीं गुप्त अखबारों की गतिविधियों में राष्ट्र रत्न बाबू शिवप्रसाद गुप्त, पंडित मदन मोहन मालवीय ,पंडित कमलापति त्रिपाठी, लाल बहादुर शास्त्री, संपूर्णांनन्द जी, रामेश्वर प्रसाद चौरसिया, दुर्गा प्रसाद खत्री, मन्मथनाथ गुप्त और शचीन्द्रनाथ सान्याल… एक लम्बी फेहरिस्त है, बनारस के उन नामों की जो राष्ट्रीय आंदोलन को दिशा भी देते रहे और आज़ादी के संघर्षों का गुरिल्ला संचालन भी करते रहे। आज़ादी मिली तो बनारस का यह इतिहास का पन्ना भी खामोश हो गया है ,अबकी बार दिलीप ने ठानी है बाबू राव विष्णु पराड़कर जी की पूरी कहानी को टीवी स्क्रीन पर लाने का और उनके जीवन यात्रा के साथ फिल्माने का, जिसमें उनके साथ काशी , बंगाल और महाराष्ट्र के कद्दावर स्वतंत्रता सेनानियों का इतिहास भी नज़र आएगा |

धारावाहिक को दूरदर्शन पर प्रसारित करने के लिए देश के माननीय प्रधानमंत्री और काशी से सांसद श्री नरेंद्र मोदी जी को निर्माता दिलीप सोनकर ने पत्र लिखकर विशेष अनुरोध किया है | “क्रान्ति लेखा ” का शोधकार्य स्वयं पराड़कर के पौत्र श्री आलोक पराड़कर जी , जो स्वयं एक जानें माने पत्रकार है, उनके साथ काशी के प्रसिद्ध साहित्यकार डॉक्टर अष्टभुजा मिश्रा जी लगे हुए हैं | संवाद हिंदी फिल्म जगत के नामचीन लेखक आदेश के. अर्जुन लिखेंगे, जिन्होंने सूर्यवंशम, बुलंदी, रावणराज ,खिलाड़ी, नसीब और एतराज़ आदि प्रसिद्ध फिल्मों के संवाद लिखें है | देशभक्ति गीत स्वर्गीय रवींद्र जैन जी के साथ समीर अंजान जी का होगा , जिसका संगीत मोंटी शर्मा जी द्वारा तैयार किया जा रहा है | धारावाहिक में अभिनय के लिए टीवी और फिल्मों के नामचीन कलाकार सम्मिलित किए जायेंगे |कमलाश्री फिल्म्स के बैनर तले बनने वाले इस धारावाहिक में इतिहास के कई रहस्यमयी पन्नों से दर्शक रूबरू होगें ।

 

✓✓ *वाराणसी में विश्व हिंदू सेना दिया धमकी*

 

ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर दी धमकी

 

8 अगस्त को लाखो की संख्या में ज्ञानवापी कूंच करने की दी धमकी

 

पीएम और सीएम से मांगी मां श्रृंगार गौरी मंदिर में दर्शन की मांग

 

अनुमति न देने पर बाबरी की तरह ज्ञानवापी का हश्र होने की दी धमकी

 

✓✓ *सृजन सामाजिक विकास न्यास, 95 बटालियन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल,गंगा टास्क फोर्स,एवं एन एस एस बी एच यू.के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हुआ वृक्षारोपण कार्यक्रम*

 

 

आज दिनांक 5 जुलाई 2022 को ट्रामा सेंटर वाराणसी के कैंपस व गंगा बन रमना वाराणसी में 2 दिनों में 22000 पौधे लगाए गए जिसमे पीपल,पाकड़, बरगद,जामुन,अर्जुन,नीम,अमल ताश,मोल श्री,गुल मुहर,अशोक,आवला आदि के पौधे लगाये गये इस कार्यक्रम के *मुख्य अतिथि* प्रोफेसर सरोज चूड़ामणि पद्मश्री थी, कार्यक्रम की *अध्यक्षता* डा सौरभ सिहं इन्चार्ज ट्राम सेन्टर बीएचयू ने किया तथा विशिष्ट अतिथि श्री महेंद्र मिश्रा उप कमांडेंट केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, प्रोफ़ेसर बाला लखेंद्र एनएसएस बी एच यू, श्री कालिका सिंह प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड निदेशक लेफ्टिनेंट कर्नल हेमंत गंभीर थे। संचालन एवं संयोजन सृजन सामाजिक विकास न्यास के अध्यक्ष अनिल कुमार सिंह पर्यावरण विद ने किया, श्री अनिल कुमार बॄक्ष कमांडेंट 95 बटालियन केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के दिशा निर्देश में श्री महेंद्र मिश्रा उप कमांडेंट 95 बटालियन के नेतृत्व में वाहिनी के प्रवीण सिंह के साथ तमाम जवानों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया ।

137 बटालियन गंगा टास्क फोर्स के लेफ्टिनेंट कर्नल श्री हेमंत गंभीर के नेतृत्व में गंगा टास्क फोर्स के जवानों ने भी बढ़ चढ़कर भाग लिया साथ साथ बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के एनएसएस के छात्र प्रोफेसर बाला लखेंद्र के नेतृत्व में भाग लिया ।

श्री अनिल कुमार सिंह ब्रांड एंबेसडर पर्यावरण विभाग उत्तर प्रदेश सरकार ने सभी को पौध लगाने व देखरेख करने के बारे में विधिवत बताएं।

श्री सौरभ सिंह आचार्य प्रभारी

ट्रामा सेंटर काशी हिंदू विश्वविद्यालय ने आज के कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी को धन्यवाद ज्ञापन दिए।।

 

✓✓ *नारी संकुल में वार्षिक आम सभा का हुआ आयोजन:*

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत गठित विकासखण्ड आराजीलाइन के काशीपुर क्लस्टर नारी शक्ति संकुल समिति में *आजादी के अमृत महोत्सव अंतर्गत* संकुल समिति की वार्षिक आम सभा का आयोजन काशीपुर पंचायत भवन में किया गया | संकुल समिति सोसायटी एक्ट 1860 के अंतर्गत रजिस्टर्ड संस्था है | संकुल समिति में कुल 363 स्वयं सहायता समूहों के अंतर्गत 4029 परिवारों के सदस्य जुड़े हुए हैं | संकुल के अंतर्गत कुल 25 ग्राम संगठनों का गठन किया गया है | कार्यक्रम में समूह की महिलाओं के द्वारा 03 निराश्रित महिलाओं श्रीमती चन्द्रकला, श्रीमती साधना व निर्मला को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया | कार्यक्रम में रोहनिया विधानसभा के माननीय विधायक डा. सुनील पटेल जी विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए | वार्षिक आम सभा के दौरान संकुल अध्यक्ष श्रीमती बिन्दु जायसवाल द्वारा वार्षिक कार्ययोजना, गत वर्ष का लेखा जोखा, अंकेक्षण रिपोर्ट आदि को सभी सदस्यों के समक्ष प्रस्तुत किया गया | साथ ही वर्तमान वर्ष हेतु बजट, अवशेष पात्र परिवारों को जोड़ने के लक्ष्य, प्रशिक्षण, समूहों के क्रेडिट लिंकेज से जोड़ने के लक्ष्य आदि पर चर्चा की गयी |

समूह की महिलाओं के द्वारा *सामाजिक कुरुती – दहेज़ प्रथा पर विषयक नाटक* भी प्रस्तुत किया गया | नाटक में सरोज, प्रेमलता, पुष्पा, अनीता मौर्या, मिथिलेश व चंदा ने महत्वपूर्ण रोल अदा किया | महिलाओं के विभिन्न नारों *“महिलाओं ने कर दिया कमाल, चूल्हे से पहुंची चौपाल”, “फुल नहीं चिंगारी हैं, हम भारत की नारी हैं“* से पूरा पंडाल गूँज उठा | माननीय विधायक जी ने समूह की महिलाओं को संबोधित करते हुए उनके द्वारा किये जा रहे कार्यों एवं समाज में उनके योगदान की सराहना की, माननीय विधायक जी द्वारा विशेष रूप से THR प्लांट अंतर्गत महिलाओं के कार्य की सराहना की, उन्होंने कहा कि समूह में उनके स्तर से जो भी मदद हो सकेगी वो करने के लिए हमेशा तत्पर रहेगें | संकुल अंतर्गत उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कैडरों, पदाधिकारियों आदि को प्रशस्ति पत्र व मोमेंटो देकर सम्मानित भी किया गया | इस अवसर पर जिला मिशन प्रबंधक श्रवण कुमार सिंह ने संकुल समिति को माडल संकुल समिति बनाने , महिलाओं को नए रोजगार से जोड़ने तथा उनके द्वारा उत्पादित उत्पाद को स्वयं समूह की महिलाओं द्वारा संचालित जनरल स्टोर / परचून की दुकान, आनलाइन के माध्यम से विक्रय को बढ़ाने पर चर्चा की गयी | सभी समूहों के प्रत्येक सदस्यों को आगे आकर अपने संकुल को माडल बनाने हेतु प्रेरित किया गया | कार्यक्रम के दौरान मोहम्मद चाँद बाबु, ब्लाक मिशन प्रबंधक रमेश राव, अन्य संकुल समितियों के पदाधिकारी मीरा, रीना, सुमन, संध्या, संघप्रिय गौतम, साधना भारतीतथा अन्य समूह की महिलाएं उपस्थित रहीं | कार्यक्रम का सञ्चालन संध्या व रंजना विश्वकर्मा ने किया |

 

✓✓ माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी दिनांक 5 जुलाई 2022 को जनपद वाराणसी में सर्किट हाउस में माननीय प्रधानमंत्री जी के कार्यक्रम के संबंध में बैठक की।

 

✓✓ माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी दिनांक 5 जुलाई 2022 को जनपद वाराणसी में रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर एवं सिगरा का निरीक्षण किये।

 

✓✓ *__प्रधानमंत्री के वाराणसी आगमन को लेकर मिनट-टू-मिनट कार्यक्रम किसी भी व्हाट्सएप🥏ग्रुप या सोशल मीडिया पर चलने पर सीधी कार्यवाही होगी -__जिला प्रशासन वाराणसी*

_आदेश का उल्लंघन करने पर संबंधित के खिलाफ कार्यवाही सुनिश्चित होगी__

 

✓✓ *चेतगंज थाने में दर्ज सुदखोरी व रंगदारी के मामले में फरार चल रहे आरोपित काशी सिंह व प्रेमशंकर सिंह उर्फ मीठे ने मंगलवार को अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (नवम) की अदालत में समर्पण कर दिया।*

 

*इसी मामले मटरू राय पूर्व में ही सरेंडर कर जेल जा चुके है*

 

✓✓ थाना सारनाथ के चौकी इंचार्ज पुरानापुल संग्राम सिंह ने शराबियों को खदेड़ा।

 

नख्खीघाट में आए दिन दुकानदारों के दबंगई के चलते सड़क पर बैठकर शराबियों का मयखाना लगता था।

 

जिसके चलते वहां से गुजरने वाली महिलाएं परेशान हो जाती थी।

 

उप निरीक्षक संग्राम सिंह ने चलाया हंटर,अपना अस्थाई दुकान छोड़कर भागे चीखना संचालक।

 

इसके पहले भी इन दुकानदारों को समझाया गया था, लेकिन दबंगई के चलते वहीं पर बैठाकर पिलाने के आदी हो गए थे दुकानदार।

 

अब दो फैंटम की ड्यूटी भी वहाँ लगा दी गयी।

 

✓✓ *बरेका में ग्रीष्मकालीन फुटबाल शिविर का हुआ समापन*

बनारस रेल इंजन कारखाना में संस्थान द्वारा आयोजित ग्रीष्मकालीन फुटबॉल शिविर दिनांक 05 जून से प्रारम्भ होकर 30 जून को मुख्य अतिथि वरिष्ठ कार्मिक अधिकारी श्री आर के चौधरी की उपस्थिति में समापन किया गया । इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने कहा कि बच्चों की यही पौध जो आज इस बगीचे में संस्थान द्वारा लगाई गई है बड़ी होकर जिला, प्रदेश और देश का नाम गौरवान्वित करती रही है और आगे भी करती रहेगी । इस शिविर में फुटबाल प्रशिक्षुओ को एनआईएस फुटबाल प्रशिक्षक विनोद कनौजिया, वरिष्ठ खिलाड़ी राकेश जोशी, अमरेन्द्र आर्या ने फुटबॉल की बारीकियों को सिखाते हुए उन्हें प्रतिदिन रनिंग, जागिग, जम्पिग इत्यादि का भी अभ्यास कराया । इस शिविर में शामिल प्रशिक्षुओं की संस्थान टीम शिवपुर मिनी स्टेडियम में चल रही बी डिवीजन लीग चैंपियनशिप में भाग ले रही है। इस शिविर में कुल 40 प्रतिभागियों ने भाग लिया । इस अवसर पर मुख्य अतिथि ने प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र व स्मृति-चिन्ह प्रदान किया । कार्यक्रम के प्रारंभ में अतिथियों का स्वागत संस्थान सचिव आलोक कुमार सिंह ने तथा अखलाक हुसैन खान ने धन्यवाद ज्ञापन किया ।

राजेश कुमार

जन सम्पर्क अधिकारी

 

✓✓ *महिलाओं को खूब भा रहे गर्भनिरोधक साधन ‘अंतरा’ व ‘छाया’*

 

*परिवार नियोजन में नवीन गर्भ निरोधक साधनों की भूमिका अहम*

 

*समस्त स्वास्थ्य केन्द्रों पर अंतरा व छाया की निःशुल्क सुविधा मौजद*

 

*वाराणसी, 05 जुलाई 2022 -* परिवार में खुशहाली लाने के साथ ही तमाम तरह की शारीरिक परेशानियों से निजात दिलाने में नए अस्थायी गर्भनिरोधक साधनों की अहम भूमिका है । यही नहीं नए गर्भनिरोधक साधनों में महिलाओं की पहली पसंद बना त्रैमासिक गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा जहां बच्चों के जन्म में अंतर रखने में बेहद कारगर व सुरक्षित है वहीं गर्भाशय, अंडाशय व स्तन के कैंसर से भी रक्षा करता है। यह कहना है *मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ संदीप चौधरी* का।

*डॉ चौधरी* का कहना है कि बार – बार गर्भपात, अस्पताल के चक्कर लगाने, कमजोर होती सेहत जैसी दिक्कतों से निजात पाने और परिवार में खुशहाली लाने के लिए परिवार नियोजन के नए साधन अपनाने में ही सही समझदारी है। इसके लिए वर्तमान में दो नए अस्थायी गर्भनिरोधक साधन अंतरा इंजेक्शन व छाया गोली उपलब्ध हैं। दोनों साधन जहां एक ओर दो बच्चों के जन्म में अंतर रखने में बड़ी भूमिका निभा रहे हैं वहीं इनके इस्तेमाल से एनीमिया व कैंसर से भी बचाव होता है। उन्होने बताया कि छाया गोली के सेवन से माहवारी सामान्य होती है तथा ज्यादा दिनों के अंतराल पर होती है। इससे रक्तस्राव कम होता है जो एनीमिक महिलाओं के लिए लाभकारी है। अंतरा में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन्स होता है जो गर्भाशय, अंडाशय व स्तन के कैंसर से बचाव में सहायक है।

राष्ट्रीय पारिवारिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 (2019-21) के अनुसार जिले में 15 से 49 वर्ष की 8.7 प्रतिशत महिलाओं को बच्चे नहीं चाहिए लेकिन जानकारी के अभाव में वह परिवार नियोजन का कोई साधन इस्तेमाल नहीं कर रहीं हैं। ऐसे में अलग-अलग खूबियों वाले परिवार नियोजन के दो नए साधन महिलाओं को स्वेच्छा से ज्यादा गर्भनिरोधक विधियों में से कोई एक विधि चयन करने का अवसर प्रदान करते हैं। *परिवार कल्याण कार्यक्रम के नोडल अधिकारी व एसीएमओ डॉ राजेश प्रसाद* ने बताया कि त्रैमासिक गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा व साप्ताहिक छाया गोली काफी सुरक्षित व असरदार हैं और महिलाओं को खूब भा भी रही है। यह दोनों साधन जिला चिकित्सालय सहित सभी सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर निःशुल्क उपलब्ध हैं। उन्होने बताया कि वित्तीय वर्ष 2021-22 के अनुसार जनपद में 26,507 छाया गोली व 7085 अंतरा इंजेक्शन के डोज़ इस्तेमाल कर लोग परिवार के साथ खुशहाल जीवन जी रहे हैं।

*छाया बनी सहेली :* *डॉ प्रसाद* ने बताया कि छाया हारमोन रहित एक गर्भनिरोधक गोली है। यह बाज़ार में सहेली के नाम से भी उपलब्ध है। इसके उपयोग का कोई दुष्प्रभाव नहीं है। इसीलिए अन्य गर्भनिरोधक गोलियों की तरह उल्टी होना, वजन बढ़ना, सूजन, अधिक रक्तस्राव जैसी समस्याएं इसमें नहीं होती। बच्चों में अंतराल रखने के लिए यह गोली एक बेहतर विकल्प है। उन्होने बताया कि इसे स्तनपान कराने वाली व स्तनपान न कराने वाली सभी महिलाएं इस्तेमाल कर सकती हैं। ध्यान रहे छाया गोली की शुरुआत करने से पहले महिला की डॉक्टर से जांच कराना आवश्यक है ।

*छाया गोली कब लें -* छाया की पहली गोली की शुरुआत माहवारी के पहले दिन से ही करना चाहिए तथा पहले तीन महीने तक सप्ताह में दो दिन और तीन माह बाद सप्ताह में सिर्फ एक बार खानी होती है।

*कौन कर सकता है उपयोग–*

• गर्भवती को छोड़कर 15 से 49 वर्ष की महिलाएं

• कोई भी महिला जिसे बच्चे हों या न हों

• जिन महिलाओं को माला–एन अथवा माला–डी से दुष्प्रभाव हुआ हो इसे चुन सकती हैं

• यह माँ के दूध की मात्रा या गुणवत्ता पर कोई प्रभाव नहीं डालता

*अंतरा है बेहद कारगर व सुरक्षित –* अंतरा प्रत्येक तीन महीने पर इंजेक्शन द्वारा दिया जाता है, जो महिलाएं गर्भनिरोधक गोली नहीं खा सकतीं वह इसका इस्तेमाल कर सकती हैं । यह लंबी अवधि तक गर्भधारण से बचाता है तथा दो बच्चों के जन्म में अंतर रखने में सहायक है। इसे चिकित्सक की परामर्श से ही अपनाना है । अंतरा इंजेक्शन बांह, कमर या कूल्हे में डॉक्टर या प्रशिक्षित नर्स द्वारा लगाया जाता है। इंजेक्शन लगाए जाने के बाद महिला को उस जगह की मालिश या गरम सेंक नहीं करनी चाहिए ।

*कौन लगवा सकता है इंजेक्शन –*

• किशोरावस्था से लेकर 45 वर्ष की महिला चाहे उन्हे बच्चे हों अथवा नहीं

• जिन्हें हाल ही में गर्भपात हुआ हो

• स्तनपान कराने वाली महिला (प्रसव के छह सप्ताह बाद)

• एचआईवी से संक्रमित महिला चाहे इलाज करा रही हो अथवा नहीं

*कब लगवाएं अंतरा –*

• प्रसव के छह सप्ताह बाद

• माहवारी शुरू होने के सात दिन के अंदर

• गर्भपात होने के तुरंत बाद या सात दिन के अंदर

*अंतरा से लाभ –*

• तीन महीने में सिर्फ एक बार लेने की अवश्यकता होती है

• जो महिलाएं गोली नहीं खा सकतींअंतरा लगवा सकती हैं

• इसे बंद करने के पश्चात गर्भधारण में कोई समस्या नहीं होती

• कुछ मामलों में माहवारी के ऐंठन को कम करता है

• पहले से चल रही किसी भी दवा के साथ इसे लिया जा सकता है

• गर्भाशय व अंडाशय के कैंसर से बचाता है

• लाभार्थी की गोपनीयता बनी रहती है

*अंतरा के सामान्य प्रभाव – दुर्गाकुंड सीएचसी की प्रभारी व स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ सारिका राय* का कहना है कि महिला का शरीर हर महीने गर्भ के विकास के लिए तैयार होता है। इसके लिए एक अंडा निकलता है और गर्भाशय की अंदरूनी सतह मोटी व मुलायम हो जाती है एवं ज्यादा रक्त का संचार होता है। गर्भधारण न करने पर अंदरूनी सतह टूटकर माहवारी के रूप में शरीर से बाहर आ जाती है। यह प्रक्रिया हर माह दोहराई जाती है। वहीं अंतरा इंजेक्शन के बाद हर माह गर्भाशय तैयार नहीं होता है, कोई अंडा नहीं निकलता एवं गर्भाशय की परत भी मोटी नहीं हो पाती। इसकी वजह से कुछ समय माहवारी अनियमित होने के साथ बंद भी हो जाती है। इससे यह पता चलता है कि अंतरा सही ढंग से काम कर रही है तथा यह नुकसानदायक नहीं है और सुरक्षित है। जब महिला पुनः गर्भधारण करना चाहेगी और अंतरा विधि को बंद करेगी तो माहवारी चक्र पुनः शुरू हो जाएगा।

 

✓✓ *‘‘संभव’’ जनसुनवाई में पहुॅचे अठारह शिकायतकर्ता*

 

नगर निगम, वाराणसी में आज मंगलवार को ‘‘संभव’’ जनसुनवाई का आयोजन किया गया। प्रातः 10 बजे से अपराह्न 2 बजे तक आयोजित इस जनसुनवाई में कुल 18 लोगों द्वारा अपनी विभिन्न शिकायतों के साथ उपस्थित हुये। अपर नगर आयुक्त श्री सुमित कुमार ने जन सुनवाई की। प्राप्त 18 शिकायतों में जलकल विभाग से सम्बन्धित 3, मुख्य अभियन्ता से सम्बन्धित 3, अतिक्रमण विभाग से सम्बन्धित 5, जोनल/ राजस्व से सम्बन्धित 3 आलोक विभाग से सम्बन्धित 1 तथा अन्य 3 शिकायतें सहित कुल 18 शिकायतें प्राप्त हुई। अपर नगर आयुक्त श्री सुमित कुमार ने प्राप्त सभी शिकायतों के गुणवत्ता पूर्वक त्वरित निस्तारण हेतु सम्बन्धित विभागों को निर्देशित किया गया। जनसुनवाई के समय नगर निगम, वाराणसी के विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

 

✓✓ *नगर निगम, वाराणसी द्वारा आज चलाया गया वृहद वृक्षारोपण कार्यक्रम*

 

नगर निगम, वाराणसी द्वारा आज नगर के विभिन्न पार्को/ उद्यानों में कुल 146 स्थलों पर प्रातः 6 बजे से एक साथ वृक्षारोपण का कार्यक्रम चलाया गया। महापौर श्रीमती मृदुला जायसवाल द्वारा चंद्रिका नगर कालोनी में वृक्षारोपण किया गया। मा0 राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभार श्री रविन्द्र जायसवाल तथा नगर आयुक्त श्री प्रणय सिंह ने गौतम बुद्ध नगर कालोनी पार्क पहड़िया में वृक्षारोपण किया गया। मा0 राज्य मंत्री, स्वतंत्र प्रभारी डा0 दयाशंकर मिश्र, दयालू ने नाटी इमली पार्क, भरत मिलाप कालोनी में वृक्षारोपण किया गया। शहर दक्षिणी के मा0 विधायक डा0 नीलकंठ तिवारी ने भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पार्क में वृक्षारोपण किया गया। विधान परिषद सदस्य श्री लक्ष्मण आचार्य ने जवाहर नगर कालोनी में वृक्षारोपण किया गया। नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा0 एन0पी0 सिंह द्वारा पिशाच मोचन स्थित पार्क में वृक्षारोपण किया गया। सहायक नगर आयुक्त श्री अमित शुक्ला ने अम्बेडकर पार्क में वृक्षारोपण किया गया। नगर निगम के सभी जोनल अधिकारी एवं कर्मचारियों द्वारा नगर के सभी चिन्हित पार्को में वृक्षारोपण किया गया।

 

✓✓ नगर आयुक्त श्री प्रणय सिंह द्वारा पहड़िया स्थित गौतम बुद्ध नगर कॉलोनी के पार्क में पौधरोपण किया गया वहां पर कॉलोनी के पार्क में मौजूद लोगों को भी पर्यावरण को बनाए रखने के उद्देश्य से प्रत्येक व्यक्ति को एक एक पौधे लगाए जाने का महत्त्व बताया गया । उपरोक्त कॉलोनी में पौधरोपण के समय अपर नगर आयुक्त, श्री दुष्यंत मौर्य, जोनल अधिकारी, वरुणापर, श्री पी.के. द्विवेदी एवं अन्य कर्मचारी व कॉलोनी के लोग मौजूद थे उपरोक्त पौधरोपण कार्यक्रम में बढ़-चढ़कर प्रति भाग किया गया।

 

✓✓ *मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री के कार्यक्रम स्थलों का किया स्थलीय निरीक्षण, अधिकारियों को दिए आवश्यक दिशा-निर्देश*

 

*कार्यक्रम की माइक्रो लेवल प्लानिंग किया जाय-योगी आदित्यनाथ*

 

*कार्यक्रम स्थल पर आने वाले आगंतुकों को किसी भी प्रकार की परेशानी न होने पाए*

 

*मुख्यमंत्री ने डॉ संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में खेल से जुड़े प्रमुख हस्तियों को आमंत्रित किए जाने का निर्देश दिया*

 

*मुख्यमंत्री ने काशी विश्वनाथ मंदिर में किया दर्शन पूजन*

 

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने एक दिवसीय वाराणसी दौरे के दौरान मंगलवार को वाराणसी आये और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के आगामी 7 जुलाई को वाराणसी भ्रमण कार्यक्रम की तैयारियों के बाबत कार्यक्रम स्थलों का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कार्यक्रम की माइक्रो लेवल प्लानिंग करने का निर्देश दिया। सुरक्षा के मुकम्मल एवं चाक-चौबंद इंतजाम हो। कार्यक्रम स्थल पर आने वाले आगंतुकों को किसी भी प्रकार की परेशानी न होने पाए। गर्मी का मौसम है पीने के पानी की समुचित व्यवस्था हो, किंतु प्लास्टिक के बोतल आदि कतई यूज न हो।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम स्थलों पर वाहनों के पार्किंग की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित कराए जाने पर विशेष जोर दिया। उन्होंने डॉ संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम में आयोजित कार्यक्रम में खेल से जुड़े प्रमुख हस्तियों को आमंत्रित किए जाने का निर्देश दिया। प्रमुख सड़कों के साथ-साथ पूरे शहर की अच्छी साफ सफाई व्यवस्था कराए जाने हेतु नगर निगम के अधिकारियों को निर्देशित किया। अर्दली बाजार स्थित एलटी कॉलेज, रुद्राक्ष व डॉ0 संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम सांस्कृतिक दल द्वारा संस्कृतिक कार्यक्रम कराए जाने हेतु निर्देशित किया। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के दौरान वर्षा होने आदि की संभावना को देखते हुए वैकल्पिक व्यवस्था रखे जाने पर भी विशेष जोर दिया। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी का विधानसभा निर्वाचन के बाद वाराणसी की यह पहली यात्रा है, यह पूरी तरह ऐतिहासिक होनी चाहिए।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पुलिस लाइन हेलीपैड पर आए और वहां से सीधे रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में आयोजित राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन पर अखिल भारतीय शिक्षा समागम का उद्घाटन एवं डॉ संपूर्णानंद स्पोर्ट्स स्टेडियम सिगरा में आयोजित विकास योजनाओं के शिलान्यास एवं उद्घाटन तथा जनसभा कार्यक्रम स्थल का स्थलीय निरीक्षण किया तथा मौके पर मौजूद अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। तत्पश्चात मुख्यमंत्री ने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में विधिवत दर्शन पूजन किया।

निरीक्षण के दौरान पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह, स्टाम्प एवं न्यायालय पंजीयन शुल्क राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रविंद्र जायसवाल, जिला पंचायत अध्यक्ष किरण मौर्या, पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉक्टर नीलकंठ तिवारी, विधायक डॉ अवधेश सिंह, विधायक टी0राम, विधायक सुनील पटेल, कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

 

✓✓ *कार्यस्थल पर महिलाओं का लैंगिक उत्पीड़न रोकने को कार्यालयों में गठित हो आंतरिक शिकायत समिति*

 

*महिला सुरक्षा*

 

– 10 से अधिक कर्मचारियों वाले संगठनों/कार्यालयों में समिति न गठित होने पर नियोजक पर लग सकता है 50 हजार रुपये का जुर्माना

 

– 10 से कम कर्मचारियों वाले संगठनों/कार्यालयों की पीड़िता डीएम द्वारा गठित स्थानीय समिति में दर्ज करा सकती हैं शिकायत

 

वाराणसी : शासकीय, अर्धशासकीय कार्यालयों, निजी संगठनों, शैक्षणिक संस्थानों, खेलकूद संस्थानों सहित संगठित व असंगठित क्षेत्र के समस्त कार्यालयों आदि में जहाँ भी 10 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं, चाहे वे सभी पुरूष ही क्यों न हों, वहां पर आंतरिक परिवाद समिति (इन्टरनल कम्प्लेंट्स कमेटी) का गठन करना अनिवार्य है क्योंकि ऐसे कार्यालयों में कभी भी किसी काम के लिए महिलाएं भी आ सकती हैं और उनके साथ भी कोई घटना हो सकती है। ऐसे में वह कार्यालय में गठित आंतरिक परिवाद समिति को अपनी शिकायत कर सकती हैं। ऐसा न करने वाले नियोजकों पर 50 हजार रुपये का अर्थदंड लगाया जा सकता है ।

 

महिला कल्याण विभाग के निदेशक मनोज कुमार राय का कहना है कि कार्यस्थल पर महिलाओं का लैंगिक उत्पीडन (निवारण प्रतिशेध और प्रतितोष) अधिनियम 2013 की धारा-4 के अंतर्गत ऐसे सभी संगठन या संस्थान जिनमें 10 से अधिक कर्मचारी हैं, वह आंतरिक शिकायत समिति गठित करने के लिए बाध्य हैं। इसका उद्देश्य महिलाओं को लैंगिक उत्पीड़न सम्बन्धी मामलों में त्वरित और समुचित न्याय दिलाना है। निदेशक द्वारा बताया गया कि पीड़ित महिला कार्यस्थल पर लैंगिक उत्पीड़न से सम्बन्धित शिकायत आन्तरिक परिवाद समिति में दर्ज करा सकती है। समिति का गठन कार्यस्थल पर वरिष्ठ स्तर पर नियोजित महिला की अध्यक्षता में होगा, जिसमें दो सदस्य सम्बन्धित कार्यालय से एवं एक सदस्य गैर सरकारी संगठन से नियोजक द्वारा नामित किये जायेंगे। समिति के कुल सदस्यों में से आधी सदस्य महिलाएं होंगी। ऐसे कार्यस्थल जहां कार्मिकों की संख्या 10 से कम है, वहां की पीड़िता द्वारा लैंगिक उत्पीड़न की शिकायत प्रत्येक जनपद में जिलाधिकारी द्वारा गठित ‘स्थानीय समिति’ (लोकल कमेटी) में दर्ज करायी जा सकती है। यदि कोई नियोजक कार्यस्थल में नियमानुसार आन्तरिक समिति का गठन न किये जाने पर दोष सिद्ध ठहराया जाता है, तो नियोजक पर 50,000 रुपए तक का अर्थदण्ड लगाया जा सकता है। दूसरी बार दोषी पाए जाने पर पहली दोषसिद्धि पर लगाये गये दण्ड से दोगुना दण्ड नियोजक पर लगाया जा सकता है। निदेशक का कहना है कि विभिन्न विभागों और नियोक्ताओं के साथ ही महिला कर्मचारियों को अभी अधिनियम के बारे में भली-भांति जानकारी नहीं है। इसके लिए जरूरी है कि उन्हें अधिनियम के बारे में जागरूक किया जाए ताकि वह किसी आपात स्थिति में समिति के सामने अपनी बात रख सकें। महिला कल्याण विभाग भी समय-समय पर जागरूकता कार्यक्रम संचालित करता रहता है किन्तु सभी के सहयोग से ही इसे सही मायने में धरातल पर उतारा जा सकता है।

 

लैंगिक उत्पीड़न क्या है :

महिला कल्याण विभाग की उप निदेशक अनु सिंह का कहना है कि कार्यस्थल पर महिलाओं को उनकी इच्छा के विरूद्ध छूना या छूने की कोशिश करना जो महिला के सामने असहज स्थिति पैदा करने वाली हो, उसे लैंगिक उत्पीड़न के दायरे में माना जा सकता है। शारीरिक या लैंगिक सम्बन्ध बनाने की मांग करना या उम्मीद करना भी लैंगिक उत्पीड़न है। इसके आलावा किसी महिला से कार्य स्थल पर अश्लील बातें करना, अश्लील तस्वीरें, फ़िल्में या अन्य सामग्री दिखाना भी लैंगिक उत्पीड़न के दायरे में आ सकता है। उन्होंने बताया कि जनपद के समस्त कार्यालयों में नियमानुसार गठित समिति द्वारा प्राप्त प्रकरणों की सूचना जिलाधिकारी कार्यालय को दी जानी चाहिये तथा जिलाधिकारी कार्यालय के माध्यम से प्रत्येक जनपद द्वारा वार्षिक रूप में जनपद के विभिन्न कार्यालयों की संक्षिप्त रिपोर्ट का ब्योरा महिला कल्याण निदेशालय को भी भेजा जाना अनिवार्य है। विभाग द्वारा समस्त जनपदों को इस संबंध में निर्देश जारी किये गये हैं।

 

घटना के 90 दिनों के भीतर की जा सकती है शिकायत :

अधिनियम के तहत लैंगिक उत्पीड़न की शिकायत घटना के 90 दिनों के भीतर आंतरिक शिकायत समिति या स्थानीय शिकायत समिति में दर्ज करानी चाहिए। शिकायत लिखित रूप में की जानी चाहिए। यदि किसी कारणवश पीड़िता लिखित रूप में शिकायत करने में सक्षम नहीं है तो समिति के सदस्यों को उनकी मदद करनी चाहिए। यदि शिकायत नियोजक के विरूद्ध है तो वह भी स्थानीय समिति में दर्ज कराई जायेगी। अधिनियम के अनुसार पीडित की पहचान गोपनीय रखी जाना अनिवार्य है।

 

कौन कर सकता है शिकायत :

महिला कल्याण विभाग में कार्यरत राज्य सलाहकार नीरज मिश्रा का कहना है कि – कार्यस्थल पर महिलाओं का लैंगिक उत्पीडन (निवारण प्रतिशेध और प्रतितोष) अधिनियम 2013 के अंतर्गत जिस महिला के साथ कार्य स्थल पर यौन उत्पीड़न हुआ है, वह खुद शिकायत कर सकती है। पीड़िता की शारीरिक या मानसिक स्थिति ऐसी नहीं है कि वह खुद शिकायत कर सके तो रिश्तेदार, मित्र, सह कर्मी, उसके विशेष शिक्षक, मनोचिकित्सक/ मनोवैज्ञानिक, संरक्षक या ऐसा कोई भी व्यक्ति जो उसकी देखभाल कर रहा हो अथवा ऐसा कोई भी व्यक्ति जो घटना के बारे में जानता है और जिसने पीड़िता की सहमति ली है या राष्ट्रीय व राज्य महिला आयोग के अधिकारी शिकायत कर सकते हैं। यदि दुर्भाग्यवश पीड़िता की मृत्यु हो चुकी है तो कोई भी व्यक्ति जिसे घटना के बारे में पूरी तरह जानकारी हो वह पीड़िता के कानूनी उत्तराधिकारी की सहमति से शिकायत दर्ज करा सकता है। कार्य स्थल पर महिलाओं के लैंगिक उत्पीड़न की ऑनलाइन शिकायत shebox.nic.in के माध्यम से भी की जा सकती है ।

 

✓✓ जनसम्पर्क विभाग, पूर्वोत्तर रेलवे,वाराणसी

प्रेस विज्ञप्ति संख्या-01

 

वाराणसी 05 जुलाई, 2022; रेलवे प्रशासन द्वारा परिचालनिक सुविधा के लिये निम्नलिखित गाड़ियों का टर्मिनेटिंग/ओरिजिनेटिंग स्टेशन परिवर्तित कर वाराणसी जं के स्थान पर बनारस किये जाने निर्णय लिया गया है, जिसके फलस्वरूप इन गाड़ियों का बनारस स्टेशन पर आगमन एवं प्रस्थान समय निम्नवत होगा तथा इन गाड़ियों का आगमन एवं प्रस्थान वाराणसी जं पर नहीं होगा ।

– परिवर्तित टर्मिनल एवं परिवर्तित समयानुसार 14220 लखनऊ-बनारस एक्सप्रेस प्रतिदिन (रविवार को छोड़कर) 11 जुलाई, 2022 से लखनऊ से 13.00 बजे प्रस्थान कर बनारस 20.30 बजे पहुँचेगी । इसी प्रकार परिवर्तित टर्मिनल एवं परिवर्तित समयानुसार 14219 बनारस-लखनऊ एक्सप्रेस प्रतिदिन (रविवार को छोड़कर) 12 जुलाई, 2022 से बनारस से 05.05 बजे छूटकर लखनऊ 11.25 बजे पहुँचेगी।

– परिवर्तित टर्मिनल एवं परिवर्तित समयानुसार 05118 प्रतापगढ़-बनारस विशेष गाड़ी (पुरानी गाड़ी संख्या 04202) 10 जुलाई, 2022 से प्रतापगढ़ से 16.15 बजे प्रस्थान कर लोहता से 20.50 बजे छूटकर बनारस 21.15 बजे पहुँचेगी । इसी प्रकार परिवर्तित टर्मिनल एवं परिवर्तित समयानुसार 05117 बनारस-प्रतापगढ़ विशेष गाड़ी (पुरानी गाड़ी संख्या 04201) 11 जुलाई, 2022 से बनारस से 06.00 बजे प्रस्थान कर लोहता से 06.14 बजे छूटकर प्रतापगढ़ 19.15 बजे पहुँचेगी ।

– परिवर्तित टर्मिनल एवं परिवर्तित समयानुसार 11071 लोकमान्य तिलक टर्मिनस-वाराणसी एक्सप्रेस 10 जुलाई, 2022 से लोकमान्य तिलक टर्मिनस से 14.00 बजे प्रस्थान कर दूसरे दिन बनारस 19.40 बजे पहुँचेगी । इसी प्रकार परिवर्तित टर्मिनल एवं परिवर्तित समयानुसार 11072 वाराणसी-लोकमान्य तिलक टर्मिनस एक्सप्रेस 12 जुलाई, 2022 से बनारस से 15.40 बजे प्रस्थान कर दूसरे दिन लोकमान्य तिलक टर्मिनस 22.55 बजे पहॅुचेगी।

 

नोट :- इन गाड़ियों का आगमन एवं प्रस्थान उपरोक्त तिथियों से वाराणसी जं पर नहीं होगा।

 

 

 

अशोक कुमार

जनसम्पर्क अधिकारी,वाराणसी

 

• *जनसंपर्क विभाग, पूर्वोत्तर रेलवे,वाराणसी*

प्रेस विज्ञप्ति संख्या 02

वाराणसी 05 जुलाई,2022;आजादी की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में रेलवे सुरक्षा बल द्वारा वाराणसी मंडल के विभिन्न स्टेशनों पर 01 जुलाई से 05 जुलाई,2022 तक आजादी का अमृत महोत्सव पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है । इसी क्रम में मंडल रेल प्रबंधक श्री रामाश्रय पाण्डेय के निर्देशन एवं वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त डा अभिषेक के नेतृत्व में आज 05 जुलाई,2022 को रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट वाराणसी मण्डल रिज़र्व के 14 स्टाफ द्वारा आज़ादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार वाराणसी कैंट स्थित रेलवे सुरक्षा बल बैरक परिसर के बाउंड्री वाल के बाहर व रेलवे कॉलोनी में पर्यावरण की शुद्धता एवं संरक्षण हेतु वृह्द वृक्षारोपण किया गया । इस अभियान के अंतर्गत रेलवे सुरक्षा बल के जवानों द्वारा 140 वृक्ष रोपित किये गए।

इसी क्रम में आजादी के अमृतमहोत्सव के अंतर्गत आज दिनांक 05/07/22 को रेलवे सुरक्षा बल टीम की मोटरसाइकिल रैली व सुसज्जित वीडियो वाहन रेलवे स्टेशन परिसर आजमगढ़ पहुंचे जिनका प्रभारी निरीक्षक रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट आजमगढ़ द्वारा भव्य स्वागत किया गया तथा यात्रियों व जनमानस को जागृत किया गया । रेलवे स्टेशन आज़मगढ़ पर पूर्वोत्तर रेलवे के मण्डल से आये रेलवे सुरक्षा बल जवानों की मोटरसाइकिल रैली एवं सुसज्जित वीडियो वाहन एलईडी स्क्रीन के माध्यम से रेलवे सुरक्षा बल की उपलब्धियों व आजादी के महत्व को प्रदर्शित किया किया । इस मोटर साइकिल रैली में पाँच बुलेट मोटर साईकिल साथ सह सवार के साथ मय साज सज्जा एवं आजादी की अमृत गाथा व रेलवे सुरक्षा बल की उपलधियों को प्रदर्शित करते विडियो वाहन,आगे एवं पीछे पायलेट स्कोर्ट के साथ चल रहे थे । इस अवसर पर स्थानीय मीडिया कर्मी , स्टेशन के रेल कर्मचारी व राजकीय रेल पुलिस आजमगढ़ मौजूद रहे । इसके बाद मोटरसाइकिल रैली LED वीडियो से सुसज्जित वाहन रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट प्रयागराज रामबाग के लिए प्रस्थान किया।

इसी क्रम में रेलवे सुरक्षा बल निरीक्षक/मऊ साथ रेलवे सुरक्षा बल मऊ की टीम द्वारा आज दिनांक 05/07/2022 को मऊ जं रेलवे स्टेशन के सर्कुलेटिंग एरिया एवं नगर क्षेत्र में रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट /मऊ द्वारा एकता दौड़ का आयोजन किया कर रेल यात्रियों एवं आम नागरिकों में देशप्रेम को जागृत किया। इस दौरान रेलवे सुरक्षा बल के जवानों द्वारा आम जनता को आजादी का महत्व समझाते हुए स्वतंत्रता संग्राम की वीर गाथाएँ सुनाई गईं और देश प्रेम की भावना के जागृत किया गया ।

इसी क्रम में रेलवे सुरक्षा बल के जवानों द्वारा आज दिनांक 05 जुलाई,2022 को रेसुब बैन्ड एल ई डी विडियों वाहन तथा मोटर साईकिल रैली प्रयागराज रामबाग,ज्ञानपुर रोड, माधोसिंह एवं राजातालाब स्टेशनों पर आयोजित की गई । इस मोटर साइकिल रैली में पाँच बुलेट मोटर साईकिल साथ सह सवार के साथ , साज-सज्जा युक्त LED वीडियो वाहन जिसमें आजादी की अमृत गाथा व रेलवे सुरक्षा बल की उपलधियों का वीडियो का प्रदर्शन किया गया ।

ज्ञातव्य हो की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में वाराणसी मंडल पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त डा अभिषेक के नेतृत्व में कुशलतापूर्वक सम्पन्न किया गया ।

 

अशोक कुमार

जनसम्पर्क अधिकारी,वाराणसी

 

• जनसंपर्क विभाग, पूर्वोत्तर रेलवे,वाराणसी

प्रेस विज्ञप्ति संख्या 03

वाराणसी 05 जुलाई,2022; मंडल रेल प्रबंधक श्री रामाश्रय पाण्डेय की अध्यक्षता में मंडल कार्यालय के प्रेम चन्द सभागार कक्ष में आयोजित एक सादे समारोह में मंडल चिकित्सालय वाराणसी से सेवानिवृत्त मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा० महेंद्र सिंह नबियाल को भावभीनी विदाई दी गई । इस अवसर पर अपर मंडल रेल प्रबंधक(प्रशासन) श्री राहुल श्रीवास्तव, अपर मंडल रेल प्रबंधक(इन्फ्रा) श्री ज्ञानेश त्रिपाठी,अपर मंडल रेल प्रबंधक (परिचालन) श्री एस पी एस यादव,वरिष्ठ मंडल इंजीनियर(समन्वय) श्री रकेश रंजन,वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक श्री संजीव शर्मा, वरिष्ठ मंडल वित्त प्रबंधक श्रीमती प्रीती वर्मा, वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर(C&W) श्री सत्यप्रकाश श्रीवास्तव, वरिष्ठ मंडल कार्मिक अधिकारी श्री समीर पॉल, वरिष्ठ मंडल सिगनल एवं दूरसंचार इंजीनियर श्री त्रयम्बक तिवारी, वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी श्री आशुतोष शुक्ला, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर(कर्षण) श्री पंकज केशरवानी,कुमार, वरिष्ठ मंडल विद्युत इंजीनियर(आपरेशन) श्री ए के श्रीवास्तव, मंडल कार्मिक अधिकारी श्री विवेक मिश्रा समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे ।

इस अवसर पर मंडल रेल प्रबंधक श्री रामश्रय पाण्डेय ने अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में डा नबियाल की लम्बी और उत्कृष्ट सेवाओं के लिए आभार व्यक्त किया । उन्होने कहा 62 वर्ष पूरे करने के उपरांत डा नबियाल की सेवानिवृत्ति मिली है , यह अपने आप में सराहनीय है । उन्होंने बताया की किस प्रकार डा नबियाल ने कोरोना काल में मंडल चिकित्सालय के माध्यम से सेवा दी साथ ही मंडल चिकित्सालय में कुशल प्रबंधन कर आक्सीजन प्लान्ट एवं 5S प्रमाणन जैसी उपलब्धियां भी दिलाईं हैं । उन्होंने कहा की प्रत्येक व्यक्ति को डाक्टर की आवश्यकता जीवन के किसी न किसी मोड़ पर अवश्य पड़ती है और इस कारण समाज के हर वर्ग के लिए वे सम्माननीय है। जितना यश डाक्टर के प्रोफेशन में है उतना यश अन्य किसी प्रोफेशन में बहुत मुश्किल से मिलता है । अग्रिम जीवन हेतु शुभकामनाएं देते हुए मंडल रेल प्रबंधक श्री रामाश्रय पाण्डेय ने डा नबियाल से अपील की अपना शेष जीवन समाज सेवा मे  लगायें।

 

✓✓ माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी दिनांक 5 जुलाई 2022 को जनपद वाराणसी में कार्यकाल के सौ दिन पूरे होने पर काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करते हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here