Today panchanga

0
23

 

🌄सुप्रभातम🌄

🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓

🌻शुक्रवार, २४ जून २०२२🌻

 

सूर्योदय: 🌄 ०५:३०

सूर्यास्त: 🌅 ०७:१४

चन्द्रोदय: 🌝 २६:२३

चन्द्रास्त: 🌜१५:१७

अयन 🌕 दक्षिणायने (उत्तरगोलीय)

ऋतु: ⛈️ वर्षा

शक सम्वत: 👉 १९४४ (शुभकृत)

विक्रम सम्वत: 👉 २०७९ (नल)

मास 👉 आषाढ

पक्ष 👉 कृष्ण

तिथि 👉 एकादशी (२३:१२ से द्वादशी) नक्षत्र 👉 अश्विनी (०८:०४ से भरणी)

योग 👉 सुकर्मा (२९:१४ से धृति)

प्रथम करण 👉 बव (१०:२२ तक)

द्वितीय करण 👉 बालव (२३:१२ तक)

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️

॥ गोचर ग्रहा: ॥

🌖🌗🌖🌗

सूर्य 🌟 मिथुन

चंद्र 🌟 मेष

मंगल 🌟 मीन (उदित, पश्चिम, मार्गी)

बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी)

गुरु 🌟 मीन (उदित, पूर्व, मार्गी)

शुक्र 🌟 वृष (उदित, पूर्व, वक्री)

शनि 🌟 कुम्भ (उदित, पूर्व, वक्री)

राहु 🌟 मेष

केतु 🌟 तुला

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

शुभाशुभ मुहूर्त विचार

⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳

〰〰〰〰〰〰〰

अभिजित मुहूर्त 👉 ११:५१ से १२:४७

अमृत काल 👉 २९:०८ से ०६:५३

सर्वार्थसिद्धि योग 👉 ०५:१७ से ०८:०४

विजय मुहूर्त 👉 १४:४० से १५:३६

गोधूलि मुहूर्त 👉 १९:०८ से १९:३२

सायाह्न सन्ध्या 👉 १९:२२ से २०:२१

निशिता मुहूर्त 👉 २४:०० से २४:३९

राहुकाल 👉 १०:३४ से १२:१९

राहुवास 👉 दक्षिण-पूर्व

यमगण्ड 👉 १५:५१ से १७:३६

होमाहुति 👉 राहु

दिशाशूल 👉 पश्चिम

अग्निवास 👉 आकाश

चन्द्रवास 👉 पूर्व

शिववास 👉 कैलाश पर (२३:१२ से नन्दी पर)

〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️

☄चौघड़िया विचार☄

〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️

॥ दिन का चौघड़िया ॥

१ – चर २ – लाभ

३ – अमृत ४ – काल

५ – शुभ ६ – रोग

७ – उद्वेग ८ – चर

॥रात्रि का चौघड़िया॥

१ – रोग २ – काल

३ – लाभ ४ – उद्वेग

५ – शुभ ६ – अमृत

७ – चर ८ – रोग

नोट– दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है।

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

🚌🚈🚗⛵🛫

पूर्व-उत्तर (दहीलस्सी अथवा राई का सेवन कर यात्रा करें)

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️

तिथि विशेष

🗓📆🗓📆

〰️〰️〰️〰️

योगिनी एकादशी व्रत (सभी के लिए), विवाहादि मुहूर्त मिथुन-कर्क लग्न प्रातः ०५:३८ से ०८:०४ तक, उद्योग एवं मशीनरी आरम्भ मुहूर्त प्रातः ०५:३८ से १०:४६ तक, व्यवसाय आरम्भ मुहूर्त प्रातः १०:४६ से १२:२९ तक, वाहन क्रय-विक्रय मुहूर्त दोपहर १२:२९ से ०२:१३ तक, देवप्रतिष्ठा मुहूर्त प्रातः ०५:३८ से १०:४६ तक आदि।

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️

आज जन्मे शिशुओं का नामकरण

〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️

आज ०८:०४ तक जन्मे शिशुओ का नाम

अश्विनी नक्षत्र के चतुर्थ चरण अनुसार क्रमश (ला) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशु का नाम भरणी नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ली, लू, ले, लो) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है।

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

उदय-लग्न मुहूर्त

मिथुन – २८:४४ से ०६:५९

कर्क – ०६:५९ से ०९:२१

सिंह – ०९:२१ से ११:४०

कन्या – ११:४० से १३:५८

तुला – १३:५८ से १६:१८

वृश्चिक – १६:१८ से १८:३८

धनु – १८:३८ से २०:४१

मकर – २०:४१ से २२:२३

कुम्भ – २२:२३ से २३:४८

मीन – २३:४८ से २५:१२

मेष – २५:१२ से २६:४६

वृषभ – २६:४६ से २८:४०

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

पञ्चक रहित मुहूर्त

शुभ मुहूर्त – ०५:१७ से ०६:५९

मृत्यु पञ्चक – ०६:५९ से ०८:०४

अग्नि पञ्चक – ०८:०४ से ०९:२१

शुभ मुहूर्त – ०९:२१ से ११:४०

रज पञ्चक – ११:४० से १३:५८

शुभ मुहूर्त – १३:५८ से १६:१८

चोर पञ्चक – १६:१८ से १८:३८

शुभ मुहूर्त – १८:३८ से २०:४१

रोग पञ्चक – २०:४१ से २२:२३

शुभ मुहूर्त – २२:२३ से २३:१२

मृत्यु पञ्चक – २३:१२ से २३:४८

अग्नि पञ्चक – २३:४८ से २५:१२

शुभ मुहूर्त – २५:१२ से २६:४६

मृत्यु पञ्चक – २६:४६ से २८:४०

अग्नि पञ्चक – २८:४० से २९:१७

〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here